बहुमत परीक्षण से पहले ही येदियुरप्पा का इस्तीफा

बेंगलुरु. कर्नाटक विधानसभा में मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने अपने भावुक भाषण के बाद सीएम पद से इस्तीफे का ऐलान कर दिया है.

सुप्रीम कोर्ट द्वारा बहुमत साबित करने के लिए महज़ एक दिन का वक़्त दिया गया था, जबकि इससे पहले राज्यपाल ने उन्हें 15 दिनों में बहुमत साबित करने को कहा था.

शनिवार को येद्दियुरप्पा ने सदन में बहुमत परीक्षण से पहले ही इस्तीफा का ऐलान कर दिया.

इस्तीफे से पहले बीएस येदियुरप्पा ने भाषण दिया. भाषण के दौरान वह भावुक भी हुये और कहा कि वह किसानों के लिए लड़ाई जारी रखेंगे. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के सुशासन की वजह से बीजेपी ने 104 सीटें जीती हैं.

उल्लेखनीय है कि बीजेपी आलाकमान ने पहले ही संकेत दे दिया था कि विधायक संख्या न जुट पाने की स्थिति में बीएस येदियुरप्पा इस्तीफा दे देंगे ताकि चुनावी साल में किसी भी तरह के खरीद-फरोख्त का आरोप न लगे.

गौरतलब है कि इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था कि केजी बोपैया कर्नाटक विधानसभा में प्रोटेम स्पीकर बने रहेंगे. इसके साथ ही आज विधानसभा में बहुमत परीक्षण का सीधा प्रसारण भी किया जाएगा. ​

15 मई 2018 को मतगणना के बाद कर्नाटक विधानसभा में किसी को भी पूर्ण बहुमत नहीं मिला. बीजेपी 104 सीट पर जीत दर्ज की जबकि कांग्रेस 78 सीटों पर जीत दर्ज की. जेडीएस के खाते में 38 सीट गई.

कोर्ट के आदेश के अनुसार 19 मई की शाम 4 बजे कर्नाटक विधानसभा में बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्‍पा को अपना बहुमत साबित करना था. बीएस येदियुरप्‍पा ने 17 मई की सुबह 9:30 बजे कर्नाटक के 25वें मुख्‍यमंत्री के रूप में शपथ ली थी.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY