आपको पता होना चाहिए, इस देश में राष्ट्रपति और राज्यपाल को Pidi किसने बनाया?

पिछले दिनों एक किस्सा बड़ा मशहूर हुआ…

असम के कांग्रेस छोड़ भाजपा में आये हुए युवा नेता हिमान्त बिस्वशर्मा जी ये किस्सा घूम घूम के जनसभाओं में सुनाया करते थे.

किस्सा तब का है जब हिमांता कांग्रेस में ही थे और असम के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई से असंतुष्ट थे…

अपनी बात कहने हाई कमान के पास दिल्ली गए… बड़ी मुश्किल से राहुल गांधी ने टाइम दिया…

मीटिंग कोठी से बाहर लॉन में हुई… चाय आई, बिस्कुट आये… और साथ साथ ही राहुल बाबा का प्रिय कुत्ता Pidi भी आ गया…

इधर हिमान्त बिश्वासरमा अपनी बात कह रहे थे उधर राहुल उनकी बातों को ignore कर अपने कुत्ते Pidi से खेल रहे थे…

कुत्ता Pidi टेबल पे रखी प्लेट में से ही बिस्किट खाने लगा… फिर उसी प्लेट में से एक बिस्किट राहुल ने स्वयं उठाया और प्लेट हिमांता के सामने कर दी…

हिमांता ने Thank You बोला और मीटिंग बीच मे ही छोड़ के वापस आ गए…

लौट के गुवाहाटी आये और कांग्रेस से इस्तीफा दे के भाजपा में शामिल हो गए…

असम से कांग्रेस को खदेड़ने में हिमान्त का बहुत बड़ा रोल रहा और भाजपा की त्रिपुरा विजय का आर्कीटेक्ट भी उन्हें ही माना जाता है…

वो पूरे असम में घूम घूम के ये किस्सा सुनाया करते थे कि कांग्रेस में हम लोगों से ज़्यादा इज़्ज़त तो राहुल के कुत्ते Pidi की है. असमिया आत्मसम्मान और गौरव की रक्षा भाजपा करेगी…

काँग्रेस ने दरअसल अपनी गलतियों से कभी नही सीखा.

कुछ यही माहौल 80 के दशक में था. ये किस्सा आंध्रप्रदेश का है. कांग्रेस के CM हुआ करते थे विजय भास्कर रेड्डी… इंदिरा गांधी से मिलने गए दिल्ली…

तीन दिन वहां आंध्र भवन में पड़े रहे पर इंदिरा ने मिलने का समय न दिया सो बिना मिले बैरंग हैदराबाद लौट आये.

उधर आंध्र में सुविख्यात फ़िल्म अभिनेता एनटी रामाराव (NTR) एक राजनेता के रूप में बड़ी तेजी से उभर रहे थे. उन्होंने इस घटना को तेलुगु गौरव… तेलुगु आत्मसम्मान का मुद्दा बना दिया…

पूरे प्रदेश में रथ यात्रा निकाली और कहते फिरे कि विजय भास्कर रेड्डी करोड़ो तेलुगु लोगों के प्रतिनिधि के रूप में दिल्ली गए थे. उनको मिलने का समय न दे के इंदिरा ने तेलुगु गौरव का अपमान किया… नारा चला… तेलुगु बिड्डा (गौरव).

1983 में आंध्र में चुनाव हुए और NTR की पार्टी तेलुगूदेशम ने 196 सीट जीत ली… NTR CM बने…

पर इंदिरा गांधी इतनी तानाशाही प्रवृत्ति की महिला थी कि उसने NTR को हटाने का मन बना लिया. वयोवृद्ध NTR अपनी बायपास सर्जरी कराने अमरीका गए. पीछे से कांग्रेस द्वारा नियुक्त गवर्नर रामलाल ने NTR को बर्खास्त कर तेलुगूदेशम के ही एक बागी नेता को शपथ दिला दी…

NTR के पास पूर्ण बहुमत थी… 156 विधायक अब भी उनके साथ थे… बीमार NTR बिस्तर से उठ खड़े हुए और अपने 156 विधायकों के साथ हैदराबाद से दिल्ली के लिए AP Express में सवार हो निकल पड़े…

उन दिनों AP Express एक VVIP ट्रैन होती थी… उसे बीच में ही रोक दिया गया… जो ट्रेन कभी एक मिनट लेट नहीं हुई वो पूरे 36 घंटे देरी से दिल्ली पहुंची…

NTR अपने 156 विधायकों के साथ राष्ट्रपति भवन पहुंचे… दुनिया जहान का मीडिया वहां हाजिर था… पर कोई सुनवाई न हुई… उधर रामलाल ने नए CM भास्कर राव को बहुमत सिद्ध करने के लिए 30 दिन का समय दिया…

इधर आंध्र लौट के NTR ने चैतन्य रथम नामक रथयात्रा निकाल दी… वो जहां जाते लाखों लोगों का हुजूम उनके स्वागत को टूट पड़ता.

उन्होंने एक बार फिर तेलुगु गौरव-सम्मान को ही मुद्दा बनाया… उनके साथ देश का पूरा विपक्ष जुट गया…

ये बात है अगस्त-सितम्बर 1984 की… अमृतसर में स्वर्ण मंदिर में ऑपरेशन ब्लू स्टार की आग बुझी नहीं थी… पंजाब जल रहा था… तभी आंध्र में ये तमाशा शुरू हो गया…

समूचा विपक्ष और मीडिया NTR के साथ खड़ा था… प्रचंड बहुमत से जीत के आयी उनकी सरकार को इंदिरा ने बर्खास्त किया था… अंततः 1 महीने बाद इंदिरा को झुकना पड़ा… रामलाल को हटा के शंकरदयाल शर्मा को गवर्नर बनाया गया और उन्होंने 16 सितंबर 1984 को NTR को पुनः शपथ दिलाई…

अगले ही महीने अक्टूबर 1984 में इंदिरा की हत्या हो गयी और उससे उपजी सहानुभूति लहर में अपनी माँ की लाश पे चढ़ के राजीव गांधी 410 सीट जीत के PM बने…

कांग्रेस को इतना प्रचंड बहुमत मिला कि चौधरी चरण सिंह को छोड़ सारा विपक्ष हार गया… BJP की सिर्फ 2 सीट आयी… पर आंध्र के लोग इंदिरा से इतने नाराज थे कि उस प्रचंड सहानुभूति लहर में भी तेलुगुदेशम 30 सीट जीत गयी आन्ध्रप्रदेश में और TDP 5 साल मुख्य विपक्षी दल बन के रही…

आज के नौजवानों को राहुल गांधी की तानाशाह दादी का ये इतिहास पता होना चाहिए.

आपको पता होना चाहिए कि इस देश में राष्ट्रपति और राज्यपाल को Pidi किसने बनाया?

कौन था जो लोकतंत्र की धज्जियां उड़ा के चुनी हुई सरकारों को इस तरह बर्खास्त कर देता था.

और किसने डाली ये परंपरा, बहुमत सिद्ध करने के लिए 30 दिन देने की…

भारत को पाकिस्तान बनाने और इमरजेंसी लगाने की हिमाकत किसने की.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY