धर्मसम्मत है, काँग्रेस का उसी के अस्त्रों से वध

कर्नाटक के चुनाव के परिणामों के बाद से लोगों ने दिमाग खराब कर रखा है. नैतिकता, आदर्शों और लोकत्रांतिक शुचिता की बातें सुन सुन कर मेरे कान पक गये है. आज काँग्रेस को, भारत के लोकतंत्र का वह सब याद आ रहा है जिसका बलात्कार, उसने पिछले 7 दशकों में बार बार किया है. भारत … Continue reading धर्मसम्मत है, काँग्रेस का उसी के अस्त्रों से वध