सेक्यूलर लेखकों को सांप्रदायिकता सिर्फ़ हिंदूवादियों में दिखती है, लीगियों और मिशनरियों में नहीं!

फेसबुक पर तमाम लेखक लोग सेक्यूलर होने का चोगा ओढ़ कर बैठे हैं. लेकिन सच यह है कि इन में एक भी सेक्यूलर नहीं हैं. यह अपने को सेक्यूलर कहने वाले सभी लेखक एकपक्षीय हैं. एजेंडा चलाने वाले सेक्यूलर हैं. सच तो यह है कि कबीर के बाद कोई लेखक सेक्यूलर नहीं हुआ. यह असग़र … Continue reading सेक्यूलर लेखकों को सांप्रदायिकता सिर्फ़ हिंदूवादियों में दिखती है, लीगियों और मिशनरियों में नहीं!