माँ की रसोई से करेला मनभावन : ऐसे पकाएंगे तो कड़वा नहीं होगा करेला

कड़वा होने के कारण जितना अपमान करेले को सहना पड़ता शायद उतना और किसी सब्ज़ी को नहीं सहना पड़ता होगा, इसके बावजूद उसके गुणों में कोई कमी नहीं आती. सारा अपमान सहने के बाद भी वो अपनी सारी पौष्टिकता खाने वाले को समर्पित कर देता है.

जानते हैं ना करेले से मधुमेह ठीक होता है, चर्म रोग दूर होता है, पाचन शक्ति के साथ रोग प्रतिरोध शक्ति बढ़ती है. जब इतने सारे गुण है तो फिर एक अवगुण के पीछे क्यों किसी सब्जी का अपमान करना.

वैसे एक बात और बता दूं, सादे करेले की सब्ज़ी बनाते समय उसकी कड़वाहट बिना उसको नमक में रखे भी कम हो जाती है. मेरे हाथ का करेला कभी कड़वा नहीं होता. इसके दो कारण है एक तो इसको काटने का तरीका, और दूसरा पकाने की विधि और अवधि.

करेले को जितना हो सके पतला और गोल काटिए, दूसरा यदि उसे आप थोड़े से अधिक तेल मसाले के साथ अधिक देर तक पकाएंगे तब भी उसका कड़वापन कम हो जाएगा. लेकिन जितना कड़वापन कम होता जाएगा, उसकी पौष्टिकता कम होती जाएगी.

चलिए फिर भी आज आपके सामने कड़वे करेले को थोड़ा – सा मनभावन बनाकर प्रस्तुत किया जाए. ताकि पौष्टिकता के साथ स्वाद भी आये. तो लीजिये प्रस्तुत है आपका अपना मनभावन भरवां करेला.

आवश्यक सामग्री

करेले – आधा किलो
बारीक कटे प्याज़- 4
लहसुन अदरक किसा हुआ – 2 चम्मच
भूनी चने की दाल पिसी हुई – 1 बड़ा चम्मच
पिसे भुने मूंगफली दाने – 1 बड़ा चम्मच
पिसी – 1 चम्मच
हल्दी पाउडर – 1 छोटा
धनिया – 2 चम्मच
तेल – 2 बड़े चम्मच
अमचूर – 1 चम्मच
नमक – स्वादानुसार
सौंफ- आधा चम्मच
कलौंजी – आधा चम्मच
दो चुटकी भर शक्कर

विधि

मनभावन भरवां करेले बनाने के लिए सबसे पहले करेले को धोकर बीच से चीरा लगाएं. और करेले के बीज निकाल लें.

एक कड़ाही में तेल गर्म करें, उसमें बारीक कटे प्याज सुनहरे भूने होने तक पका लें.

अब इसमें बाकी सामग्री मिलाकर अच्छे से भून लें.

मसाले को ठंडा होने दें, फिर इसे करेले में भरकर करेलों को धागे से बाँध दें.

अब इन करेलों को तीन प्रकार से पकाया जा सकता है-

पहला आप करेलों पर थोड़ा सा सरसों का तेल छिड़ककर इसे दस मिनट के लिए माइक्रोवेव कर लें.

दूसरा एक बड़ा चम्मच तेल कड़ाही में गर्म कर करेलों को ढांक कर पका लें.

तीसरा कड़ाही में इतना तेल लें कि करेले उसमें डूब सके, फिर तेल गरम होने पर इन्हें कुरकुरा होने तक तल लें.

स्वास्थ की दृष्टि से तीनों में तेल की मात्रा का अनुमान आपने लगा ही लिया होगा.

लीजिये तैयार है आपका मनभावन भरवां करेला. धागा निकालिए, ताज़ा कटा हरा धनिया गार्निश कीजिये, करेलों को चाकू से छोटे हिस्सों में काटिए और गरमा गरम रोटी या परांठे से खाइए.

स्वाद भी पाइए और सेहत भी.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY