क्या मोदी हमारे लिंकन बनेंगे?

आज मैंने अंग्रेज़ी में एक लेख लिखा था जिस पर कुछ लोगों के सन्देश आये कि मैं उसे हिंदी में लिखूं. यह कार्य बड़ा कष्टदायक होता है क्योंकि अंग्रेज़ी में जो लिखा जाता है वह एक अलग तरुन्नम में लिखा जाता है और उसी बात को हिंदी में लिखने पर उसकी आत्मा कहीं न कहीं … Continue reading क्या मोदी हमारे लिंकन बनेंगे?