दुष्कर्म के आरोपी आसाराम को उम्रकैद, 30 बच्चों की हत्या के आरोपी कफ़ील खान को ज़मानत

जोधपुर/ इलाहाबाद. जोधपुर कोर्ट ने एक नाबालिग लड़की से कथित रेप के आरोप में कथावाचक आसाराम को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. वहीं गोरखपुर बीआरडी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के इन्सेफेलाइटिस वॉर्ड के इन्चार्ज और 30 बच्चों की हत्या के आरोपी डॉक्टर कफील खान को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने जमानत दे दी है.

कथावाचक आसाराम (असली नाम – आसुमल हरपलाणी) को जोधपुर कोर्ट के जज मधुसूदन शर्मा ने एक नाबालिग लड़की से बलात्कार के आरोप में बुधवार को आजीवन कारावास की सजा सुनाई.

आसाराम के अलावा इस अपराध में आसाराम के दो सहयोगियों शिल्पी और शरतचंद्र को भी दोषी ठहराया गया है और उन्हें 20-20 साल की सजा दी गई है. अन्य आरोपियों प्रमुख सेवादार शिवा और रसोइये प्रकाश को कोर्ट ने बरी कर दिया है.

जोधपुर सेंट्रल जेल में तैयार किए गए जोधपुर SC/ST कोर्ट के जज मधुसूदन शर्मा ने आसाराम को कुल 6 अपराधों में दोषी करार दिया है.

साल 2013 में आसाराम के खिलाफ उत्तरप्रदेश के शाहजहांपुर की रहने वाली एक लड़की ने दुष्कर्म का आरोप लगाया था.

वहीं एक अन्य संगीन मामले, जिस पर देश भर की निगाहें लगीं थी, में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बीआरडी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के इन्सेफेलाइटिस वॉर्ड के इन्चार्ज रहे डॉक्टर कफील खान को जमानत दे दी है.

एसटीएफ ने 2 सितम्बर 2017 को कफील खान को गिरफ्तार किया था. बीआरडी अस्पताल में 10 अगस्त की रात 30 अधिक बच्चों की मौत के मामले में कफील पर यह कार्रवाई की गई थी.

डॉ कफील की जमानत अर्जी पर जस्टिस यशवंत वर्मा ने सुनवाई की. इससे पहले हाईकोर्ट ने 5 सितंबर 2017 को कफील अहमद और सहायक लेखा लिपिक संजय कुमार त्रिपाठी की गिरफ्तारी पर रोक लगाने से इनकार करते हुए उनकी याचिका खारिज कर दी थी.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY