कांग्रेस ने कैसे लड़ी आज़ादी की लड़ाई?

एक मित्र ने प्रश्न पूछा कि किसी ऐतिहासिक दस्तावेज़ का नाम बताऊँ प्रमाणस्वरूप, कि आरएसएस ने आज़ादी की लड़ाई में भाग लिया था… किसी के प्रश्न के जवाब में देना है.

मैंने पूछा, आप इसका प्रमाण ढूंढ ही क्यों रहे हैं? आप मुझे इसी बात का प्रमाण ला दीजिये कि कांग्रेस ने आज़ादी की लड़ाई में भाग लिया था…

आज़ादी की लड़ाई में क्या हुआ था? किस बात को आप आज़ादी की लड़ाई कहते हैं?

नेहरू के पाले हुए इतिहासकारों ने हमारा इतिहास लिखा ही कुछ इस तरह है कि कांग्रेस ने जो भी किया उसी को आज़ादी को लड़ाई मान लिया गया.

गांधी ने बकरी का दूध दुहा वह भी आज़ादी की लड़ाई थी. और नेहरू ने अपान वायु (पाद) भी छोड़ी तो अंग्रेजों को देश से भगाने के लिए छोड़ी.

कांग्रेस ने आज़ादी की लड़ाई कैसे लड़ी?

पहली बार कांग्रेस ने इरादा किया कि अंग्रेजों से आज़ादी माँगनी है, तो वह साल था 1930. उसके पहले तो काँग्रेस ने आज़ादी मांगी ही नहीं. उन्होंने सत्ता में हिस्सेदारी ही माँगी थी.

तो कांग्रेस की लड़ाई आज़ादी की लड़ाई कैसे हो गई? 1930 के पहले तक के आंदोलनों को आज़ादी की लड़ाई कैसे माँग लें?

बल्कि 1920 के असहयोग आंदोलन में जैसे ही यह खतरा खड़ा होने लगा कि अंग्रेज़ी शासन कहीं खत्म ना हो जाये, गांधी ने आनन फानन में इस आंदोलन को बन्द किया.

1930 में आज़ादी का लक्ष्य घोषित करने के बाद भी कांग्रेस ने ऐसा कौन सा काम किया जिससे अंग्रेजों को देश छोड़ने की कोई मजबूरी आई हो?

बल्कि जिस किसी ने भी अंग्रेजों से लड़ाई की, कांग्रेस ने उसकी पीठ में छुरा ही घोंपा. चाहे चंद्रशेखर आज़ाद, भगत सिंह हों, या सुभाषचंद्र बोस.

1942 में एक बार कांग्रेस ने अंग्रेजों भारत छोड़ो का नाम भर लिया था… 8 अगस्त को इस आंदोलन की घोषणा हुई, 9 अगस्त की सुबह सुबह गाँधी, नेहरू और सारे कांग्रेसी नेता जेल में थे और बाकी विश्वयुद्ध तक जेल में ही रहे.

तो उन्होंने ऐसा क्या कर लिया कि अंग्रेजों ने भारत छोड़ दिया? कांग्रेस ने अपने पूरे इतिहास में ऐसा कौन सा आंदोलन किया जिसका कोई भी परिणाम निकला हो? उसे हम आज़ादी की लड़ाई कैसे मान लें?

हमारी सबसे बड़ी समस्या यह होती है कि जैसे ही कोई हम पर कोई आरोप लगाता है, हम सफाई देने लगते हैं. कोई प्रमाण माँगता है, हम उसे देने के लिए प्रमाण ढूंढने लगते हैं.

भाई, हम आपको कोई भी प्रमाण क्यों दें? अगर गाँधीजी के चरखा चलाने से आज़ादी मिलती है तो संघ के लाठी चलाने से कैसे नहीं मिलती?

जिस समय देश पराधीन हो उस समय बच्चों में, युवाओं में जन्मभूमि के प्रति श्रद्धा और राष्ट्रीयता का भाव भरना आज़ादी की लड़ाई में कैसे ना गिना जाए?

इस पर सवाल उठाया किसने, और उसका जवाब और प्रमाण हम क्यों दें? इसका आप कोई भी उत्तर देंगे, उससे सिर्फ इस प्रश्न की प्रामाणिकता ही स्थापित होगी, और कुछ नहीं.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY