उदयन स्वरोजगार : एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारो, कैसे नहीं होगा आसमान में छेद!

आपसे मिलिये, आप हैं श्री विजय कुमार जी. मेरे गांव माहपुर के हैं. इनकी पत्नी रंजना उदयन में बच्चों की देखभाल करती हैं और उदयन के सिलाई सेंटर में मछरदानियाँ सिलती हैं. उदयन की staff हैं तो इस नाते इनकी दो बेटियां भी उदयन में ही पढ़ती हैं. तो किस्सा यूँ है कि पिछले दिनों … Continue reading उदयन स्वरोजगार : एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारो, कैसे नहीं होगा आसमान में छेद!