आयुर्वेद आशीर्वाद : ज़िद्दी कफ़ का सरल उपचार

आज मैं आपको आयुर्वेद में एक ऐसी दवाई के बारे में बताने जा रहा हूँ जो कि कफ़ की दवा है.

कई बार ठण्ड लगने से या किसी अन्य रोग की वजह से हमें कफ़ हो जाता है. और कई बार कफ़ इतना ज़िद्दी हो जाता है कि छाती और फेफड़ो में जमा हो जाता है.

जिससे सांस लेते वक़्त सिटी की सी आवाज़ आती है और खांसी भी आने लगती है और कई बार टाइट बलगम भी बाहर आता है. और ये समस्या उनको भी होती है जो स्मोकिंग करते हैं.

तो आज हम आपको यही ज़िद्दी बलगम कफ़ निकालने की दवा बता रहे हैं. इसे घर में ज़रूर बना कर रखें और जिसे बलगम है वो इसको बनाकर निरंतर खाएं. इससे आपका कफ बिलकुल साफ़ हो जाएगा और सांस खुल कर आने लगेगी.

कफ के कारण सर दर्द रहता हो तो भी इसे इस्तेमाल कर सकते हैं.

सामग्री

काली मिर्च – 20 ग्राम
काला नमक भुना हुआ – 50 ग्राम
सौंठ – 30 ग्राम
चिरायता – 60 ग्राम
अजवायन – 60 ग्राम
छोटी हरड़ – 65 ग्राम
मुलेठी – 60 ग्राम
तुलसी पंचांग – 60 ग्राम
भुनी शुद्ध हींग – 110 ग्राम
आँवला – 50 ग्राम
गिलोय – 60 ग्राम

इन सबको आपस में महीन पीस कर एक एक चमच्च सुबह शाम गर्म पानी से लें. पुराने कफ़ के लिए 2 से 3 महीने तक इसका सेवन करें. बड़े दिन में 2 से 3 बार लें और बच्चों को 2 वक़्त आधा आधा चमच्च ही दें.

इसके साथ शरीर में कफ़ बनाने वाली चीज़ों का सेवन कम करें या बंद ही कर दें. और पास के किसी भी मेडिकल स्टोर पर से जाकर भाप लेने वाले कैप्सूल लेकर आएं और एक कैप्सूल तेज गर्म पानी में डाल कर उसकी भाप लें.

दोस्तों ऐसा करने से कफ जड़ से खत्म हो जाएगा. कफ़ की पुराणी बीमारी को ठीक करने जो लोग हज़ारो रुपये बर्बाद कर चुके हैं वो एक बार इसे ज़रूर करके देखें, आश्चर्यजनक परिणाम मिलेंगे.

– आयुर्वेद डॉ अमर वर्मा

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY