गौरक्षा – 4 : एक गाय दूध न देते हुए भी देती हैं हज़ारों का लाभ

अब जो लोग कहते हैं कि गाय दूध नहीं देती तो कटवा देना चाहिए या बैल और नंदी किसी काम के नहीं हैं तो उनको कटवा देना चाहिए इनके लिए यह लेख है. आप आइए आपको बताते हैं कि एक गाय /बैल/नंदी दूध न देते हुए कितने हज़ार का फ़ायदा देती है.

कुतर्क गौहत्यारो की तरफ़ से

१- गाय का माँस बेचने से विदेशी मुद्रा प्राप्त होती है
२- गाय का ख़ून और चमड़ा बेचने से भी मुद्रा प्राप्त होती है
३- गाय का रख रखाव और चारे की महँगाई है उससे ज़्यादा
४- अच्छा है कि काट कर बेच दें और सबसे वाहियात कुतर्क है कि जो की मुसलमानों की तरफ़ से दिया जाता है कि गाय काटना हमारे धर्म का अभिन्न अंग है इसके अलावा भी कुछ है तो आप जोड़ लीजिए सबके जवाब देने की कोशिश करता हूँ.

गाय काटने से प्राप्त मुद्रा लाभ

एक गाय का पूरा वजन लगभग 3 क्विंटल होता है जिसको काटने के बाद लगभग 80-100 किलो माँस मिलता है और 20-25 lit ख़ून मिलता है तथा चमड़ा भी मिलता है अब देखते हैं इसका कितना मूल्य होता है.

गाय का माँस लगभग 50 रुपए किलो है या चार पाँच रुपए कम ज़्यादा तो लगभग 80 किलो माँस से 80×50 = 4000 रुपए, ख़ून अधिकतम कसाई नहीं बेच पाते अगर बेच भी लिया तो 25 लीटर ख़ून का 2500-3000 मिलता है.

अब बची हड्डियाँ और चमड़ा जो मिलकर 70-80 किलो होता है जिसका बाज़ार में लगभग 1000-1200 या अधिकतम 1500 मिलता है जो कि अमूमन 1000 भी नहीं मिलता फिर भी हम अधिकतम जोड़ लेते हैं सब मिलाकर हत्या करने के बाद 8000 के आस पास मिलेगा!

गौरक्षा से लाभ : अब अगर आप उसी गाय को पाल लेते हैं तो कितना मिलेगा

एक गाय लगभग दिन भर में लगभग 8-10 किलो गोबर और 2.5 – 3 लीटर मूत्र देती है बाक़ी आध्यात्मिक लाभ बाद में बताएँगे अभी विशुद्ध व्यापार पर बात कर लेते हैं.

गाय के 2 किलो गोबर से लगभग 30 किलो खाद बनती है जिसको अंग्रेज़ी में ओरगैनिक और हिंदी में जैविक खाद कहते हैं या फिर सबसे अच्छा शब्द है वैदिक खाद. ख़ैर अब आप मानेंगे नहीं कि मात्र दो किलो गोबर से इतना कैसे बनेगा तो गौरक्षा भाग – 2 देखिए उसमें खाद बनाने की एक विधि बताई गई है उसके अलावा और भी कई विधि हैं.

कुछ नहीं समझ आता तो दस किलो गोबर मिल रहा है न उसको आस पास के घास फूस को मिलाकर घर के रसोई कचरे को मिला दीजिए और साथ ही जो भी वेस्ट निकल रहा है सब डालकर खाद बना लीजिए तो रोज़ के गोबर से लगभग तीस चालीस किलो खाद न जाएगी.

एक किलो खाद की क़ीमत आज 10-12 रुपए किलो है तो अगर आप ढंग से खाद बनाएँगे तो रोज़ 300 किलो खाद वरना 30 किलो खाद मिलेगी इस तरह आप रोज़ 300 या मेहनत करेंगे तो 3000 की खाद मिलती है. एक सप्ताह में ही गाय काटने से ज़्यादा पैसा मिल जाएगा खाद से.

अब आ जाते हैं गोमूत्र पर जो कि लगभग 2-3 लीटर मिलता है और जिसका बाज़ार भाव 600-700 रुपए प्रति लीटर है. आप जानते हैं कि गाय के मूत्र का अमेरिका ने कितना पेटेंट लिया हुआ है? नहीं जानते होंगे ख़ैर आप मानसिक ग़ुलामी में रहिए गाय के मूत्र से लगभग 105 टाइप की औषधि बनाई जाती है जिसको विस्तार से आगे लिखूँगा तब तक इतना समझ लीजिए कि वही अमेरिका गोमूत्र से शुगर (मधुमेह), कैंसर, bronkitis, bronchial asthma, tuberculosis, osteomyelitis यह सब प्रमुख रोग हैं जिनकी दवा बनाता है.

अमेरिकन market के हिसाब से calculate करे तो 1200 से 1300 रुपए लीटर बैठता है एक लीटर मूत्र! तो गाय के मूत्र से लगभग रोज की 3000 की आमदनी !!!

और इसी गाय के गोबर से एक गैस निकलती है जिसे मिथेन कहते हैं और मिथेन वही गैस है जिससे आप अपने रसोई घर का सिलेंडर चला सकते हैं और जरूरत पड़ने पर गाड़ी भी चला सकते हैं 4 पहियों वाली गाड़ी भी!

एक पहल इस काम को अंजाम दे सकती है लेकिन किसी भी सरकार को पड़ी नहीं है. हम CNG से गाड़ी चलाते हैं CNG का मुख्य घटक है मिथेन, गोबर गैस का भी मुख्य घटक है मिथेन. सिर्फ़ कम्प्रेस करने का यंत्र लगाना है और सबको जोड़ना है अपनी पेट्रोल की समस्या भी कम की जा सकती है नहीं तो घर का खाना तो बन ही रहा है लेकिन मूर्खों को समझना और समझाना दोनो ही मूर्खता है.

इस तरह अगर एक साल का निकालेंगे तो लाखों का फ़ायदा और गाय की औसत उम्र बीस साल तो करोड़ों का फ़ायदा. सरकार पर दबाव बनाइए, उसका साथ दीजिए गौ हत्या रोकिए और फ़ायदा लीजिए.

अन्त में सिर्फ़ इतना कहना है कि अगर आप यह सब कुछ न भी कर पायें तो अपनी खेती में इस्तेमाल कीजिए साल भर का बचत जोड़िए और गाय को खिलाने का सबसे महँगा ख़र्च भी जोड़ेंगे तो एक किलो दाना और 4-5 किलो चारा भूसा इत्यादि. एक किलो दाना 20 रुपए बाज़ार भाव भूस लगभग 6 रुपए किलो तो कुल मिलाकर अच्छे रखरखाव में भी 50 रुपए प्रतिदिन है फ़ायदा इसका दस गुना से ज़्यादा है अभी आधा भी नहीं लिखा हूँ.

और गाय तो घर का रूखा सूखा खाकर रह जाती है ख़राब अनाज को भी पिस कर खिला देंगे तो दाना ख़रीदने का भी पैसा बचेगा. तो मेहरबानी करके हमको अर्थशास्त्र न बताइए. ख़ुद जोड़ घटाकर देख लीजिए और बात कीजिए.

कैसे करना है नहीं समझ आता तो मुझे कहिए लाइव आकर समझाऊँगा वीडियो सेव करके रखिए और इस्तेमाल कीजिए. मैं ऐसे कई दोस्तों से मिलवा दूँगा जो यह कर रहे हैं और फ़ायदे में हैं.

– शैलेंद्र सिंह

गौरक्षा – 3 : वैदिक कीटनाशक बनाने के विधि

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY