चौंक गए? मेरे बच्चे की किताबें, उसके बच्चे की किताबों से सस्ती क्यों?

मेरी धर्म पत्नी के स्कूल में आजकल नए सत्र के admissions चल रहे हैं. एक बच्चे का books का bill औसतन 2500 रु बन जाता है.

मैंने सुना तो मेरे मुंह से निकल गया …… 2500 ?????? ऐसी कौन सी किताब पढ़ाते हो यार तुम लोग? उन ने जवाब दिया ……हुह्ह् …… हम तो सबसे कम बिल बनाते हैं. बाकी schools का तो 4000 रु का बिल होता है.
4000 ?????

धर्म पत्नी अपना दुखड़ा रोने लगीं. दो साल पहले मैंने NCERT का syllabus और बुक्स लगा दी थी पूरे स्कूल में. सिर्फ 450 रु में एक बच्चे की books हो जाती थीं. parents ने आ के मेरे सामने धरना दे दिया.

आपने तो घटिया बुक्स लगा दीं…..
वो कैसे जी?

अजी मेरे बेटे की बुक्स सिर्फ 450 रु की हैं. मेरी जेठानी का बच्चा फलाने स्कूल में पढता है. उसकी books 4500 की हैं. सस्ती किताब से क्या पढ़ेगा बच्चा. ज़्यादातर parents की यही शिकायत. रोज़ाना 4 – 6 आ के कपार पे चढ़ जाते.

तंग आ के उन्होंने सभी parents की एक workshop की. उन्हें समझाया कि ncert क्या है. ये बताया कि Ncert की बुक्स पढ़ के देस भर के स्टूडेंट्स IAS की तैयारी करते हैं. इन्ही books की नक़ल मार के ही ये private publisher अपनी किताबें छापते हैं. देखिये ये दोनों किताबें. सारे chapters वही हैं पर इसका दाम सिर्फ 30 – 40 रु है और इसका 250 / 350 रु है. और ये भी समझाया कि इन प्राइवेट publishers की किताब लगाने से स्कूल को 40 – 50 % तक commission मिलता है.

पर गधे को समझा बुझा के घोड़ा बनाया जा सकता है क्या?
और क्या ज़रूरत है गधे को घोड़ा बनाने की?
घोड़ों की पूछ तभी तक है जब तक दुनिया में गदहे और खच्चर हैं.
और किसके पास इतनी energy और इतना समय है कि गधों को घोड़ा बनाने में खर्च करे?

हार के उन्होंने भी private प्रकाशन की पुस्तकें लाद दी. जहां NCERT की 5 किताबों से काम चल जाता था वहाँ private प्रकाशन की 14 किताबें लगी हैं. moral science की 3 किताबें हैं. इनमें बच्चों को ये रटाया जाता है कि हमें अपने माता पिता का सम्मान करना चाहिए.

आज प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा की सबसे बड़ी समस्या ये है कि उसमें उन parents का सबसे ज़्यादा दखल है जो education और child psychology की A B C नहीं जानते. चूहा दौड़ लगी है. मेरी जेठानी के लड़के को 17 किताबें लगी हैं. हाय मेरा बेटा तो पिछड़ जाएगा.

हर कोई अपने बेटे को क्लास में first rank चाहता है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY