कैम्ब्रिज एनालिटिका और कुत्तों का मॉर्निंग-ईवनिंग वॉक

स्टिंग ऑपरेशन में कैम्ब्रिज एनालिटिका का भंडाफोड़ होने का भारत में सबसे पहला शिकार आठवीं फेल ट्रक ड्राइवर बना है.

कैम्ब्रिज एनालिटिका का भंडाफोड़ यदि नहीं हुआ होता तो आठवीं फेल ट्रक ड्राइवर के अनशन में 2011 के अनशन की तरह अबतक आधा दर्जन फ़िल्म स्टार/ फिल्मी गवैये आकर अनशनी नाच गाना कर चुके होते.

2011 की ही तरह न्यूज़ चैनलों द्वारा 24 में से 18 घण्टा अनशन का लाईव प्रसारण किया जा रहा होता.

आठवीं फेल ट्रक ड्राइवर के अनशन थियेटर को दान में भेजे जा रहे हज़ारों बेहतरीन लंच पैकेटों, महंगे मिनरल वॉटर की बोतलों और फलों से लदे दर्जनों ट्रकों का तांता लगा होता.

2011 की ही तरह इसबार भी दिल्ली के साथ ही साथ देश के कम से कम 50 शहरों में आठवीं फेल ट्रक ड्राइवर के अस्थायी अनशन अड्डे भी खुल चुके होते.

लेकिन इस बार 2011 जैसा कुछ भी नहीं हो रहा. इसकी बजाय आठवीं फेल ट्रक ड्राइवर के अनशन सर्कस के पण्डाल में सुबह-शाम जनता नहीं आ रही बल्कि कुत्तों का मॉर्निंग/ ईवनिंग वॉक करते देखा जा रहा है.

दरअसल यह ध्यान रखिये कि 2011 में यह सब फोर्ड फाऊंडेशन और कई NGO’s के हॉलैंड स्थित अंतरराष्ट्रीय संगठन HIVOS की अदृश्य कृपा से हुआ था जिसकी कलई बाद में किस्तों में खुलती गयी थी.

इस बार 2018 में आठवीं फेल ट्रक ड्राइवर का सर्कस 2011 से भी ज्यादा शानदार ज़ोरदार तरीके से शुरू करने की तैयारी थी.

इस बार यह तैयारी फोर्ड फाऊंडेशन या HIVOS के बजाय कैम्ब्रिज एनालिटिका गैंग सम्भाल रहा था. इसीलिए केवल पेंशन के सहारे बहुत साधारण ज़िन्दगी गुज़ारने वाला शातिर अनशनबाज नट अर्थात आठवीं फेल ट्रक ड्राइवर पिछले 4-5 महीनों से पूरे देश की हवाईजहाजी बिज़नेस क्लास में कर रहा था.

लेकिन नाश हो जाए लन्दन के उस नासपीटे न्यूज़ चैनल ‘चैनल 4’ का जिसने आठवीं फेल ट्रक ड्राइवर की दौड़ धूप और कैम्ब्रिज एनालिटिका की तैयारियों पर पानी फेर दिया.

माल-पानी मिलने की संभावनाएं खत्म होते ही एडवांस रकम लेकर पहले से बुक हो चुके फिल्मी सितारों ने आठवीं फेल ट्रक ड्राइवर से फुल एंड फाइनल पेमेण्ट पहले मांग लिया है.

न्यूज़ चैनलों ने भी आठवीं फेल ट्रक ड्राइवर के पास सन्देश भिजवा दिया है कि… ना तुम हमे जानों… ना हम तुम्हें जाने…

परिणाम स्वरूप आठवीं फेल ट्रक ड्राइवर के अनशन सर्कस के पण्डाल में जनता के बजाय मॉर्निंग/ इवनिंग वॉक करते कुत्ते जरूर देखे जा रहे हैं.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY