शिक्षा : कभी Mission हुआ करता था, अब सिर्फ Business है

एक अस्पताल में 100 लोग आये. पर एक समस्या है. सिर्फ 10 bed खाली हैं. सो management ने निर्णय किया कि हम जांच करेंगे. सभी मरीजों /लोगों के test लेंगे. जो सबसे ज़्यादा स्वस्थ होंगे उन्हें ही भर्ती करेंगे. सो उन्होंने 10 सबसे स्वस्थ लोग छाँट लिए और जो बेचारे बीमार थे ……बहुत बीमार …….उन्हें भगा दिया. उनके परिजन दर दर भटकते रहे. किसी अस्पताल ने उन्हें न लिया …..और उन्हें छोड़ दिया गया मरने के लिए.

यदि सचमुच ऐसी ही हो अस्पतालों की व्यवस्था तो आप क्या करेंगे.

25 साल से हम दोनों शिक्षा के क्षेत्र में काम कर रहे हैं. आजकल धर्म पत्नी एक स्कूल की principal हैं. नए session के admissions चल रहे हैं. दाखिले से पहले बाकायदा admission test होता है. ठोक बजा के लेते हैं जी. जितना बड़ा और नामी स्कूल, उतना ही सख्त टेस्ट. कमजोर बच्चे नहीं चाहिए. उनको लो जो 100 में 100 लेते हैं.

एक बच्चा आया. 7th क्लास में है. पढ़ने लिखने में कमजोर है बेचारा. अजी कौन सर खपायेगा?

sorry हमारे यहां तो नहीं चल पायेगा आपका बच्चा. इसे कहीं और ले जाइए.

कहाँ ले जाएँ जी? किसी घटिया स्कूल में? और यदि कोई न ले तो ….. सरकारी स्कूल में ……

मित्रों …..आज देश में private schools में शिक्षा का यही हाल है …..

1990 में जब हमने अपने गाँव महापुर में स्कूल खोला था तब भी ये समस्या आती थी. बहुत से बच्चे ऐसे आते थे जो 10 या 12 साल के होते थे. वो जिन्हें 5वी या 7th में होना चाहिए पर जो इंग्लिश बिलकुल नहीं जानते थे. या maths में कमज़ोर होते.

कुछ ऐसे भी होते जो हिंदी तक नहीं जानते थे. पर हम किसी को वापस नहीं भेजते थे. कमज़ोर से कमज़ोर बच्चे को भी ले लेते थे. फिर उनके लिए अलग से एक section बनता था. उसे orientation क्लास कहते थे.

उसमें बच्चे को पहले 3 महीने ncert की 1st क्लास की बुक्स पढ़ाते. अगले 6 महीने 2nd की. अगले 6 महीने 3rd की …….इसी तरह 2 – 3 साल में उनको अपने मित्रों के बराबर ले आते थे. बहुत हुआ तो बच्चा 1 या 2 साल लेट होता था. मुझे याद है कि हमारी orientation क्लास के बहुत से बच्चे तो आगे चल के बहुत तेज हो गए और जीवन में बहुत कामयाब हुए.

उनमें से कई अब फेसबुक पे मेरी friend list में भी है. पर अब वो दिन न रहे. शिक्षा उन दिनों हमारे लिए एक mission हुआ करता था. अब तो सिर्फ business है ……

शुक्र है… उदयन में ऐसा नहीं है…

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY