जीवन-वीतराग : संगीत और साहित्य अध्यात्म की जुड़वा संताने हैं

संगीत और साहित्य अध्यात्म की जुड़वा संताने हैं… यूं तो जीवन में और जीवन के परे हो रहा हर कृत्य और कुकृत्य इसी मुखिया के गाँव की सरहद का हिस्सा है.

उसके गाँव की सीमा पर जो दीवारें हैं उन पर जीवन की उत्पत्ति की प्राचीन कहानियां चित्रित हैं.

उसके दरबार में प्रसन्नता कालबेलिया नृत्य करती है, तो कभी कभी रुदालियों सा विलाप भी सुनाई देता है…

जीवन के हरे वृक्षों पर उसकी निरंतरता के फल लगते हैं तो रेगिस्तान की उड़ती रेत की तरह कभी कभी जीवन आँखों की किरकिरी सा भी हो जाता है… लेकिन काँटों वाला ही सही फूल तो केक्टस भी देता ही है…

जब बात संगीत और साहित्य साधना की निकलती हैं, तो ये दोनों जुड़वा साधक अपनी कंदराओं से निकल कर एक हठयोगी पर सवार हो मेरे द्वार पर आ खड़े होते हैं…

एक का गीत दूजे के स्वर में ढालकर, प्रेम को परमात्मा से एकाकार की ज़िद के साथ जब वो बार बार मेरा पल्लू पकड़ लेता है… तब मैं उसके हठ को खर्ज सप्तक के विकृत स्वर पर बैठाकर मनाती रहती हूँ…

कि ये आंसू तुम्हारी कमाई है… ये पीड़ा के गीत जब खर्ज से मंद्र सप्तक तक पहुंचेंगे तो गानेवाले की ध्वनि सीधे नाभि से निकलेगी… जिस पर सवार तुम्हारा हर गीत इस सदी की किताब में दर्ज हो जाएगा…

आखिर ऊर्जा के उर्ध्वगमन का रहस्य भी तो इसी नाभि छुपा है… और किसी भी साधक की नाभि पर मुंह नहीं रखा जाता… जानते हो ना अधिकतर वाद्य यंत्रों को हाथ से ही बजाया जाता है, एक बांसुरी को छोड़कर…

और सभी मन्त्रों को गाकर ही उच्चारित करना होता है… उनके गाने की तरीकों में छुपे होते हैं बीज मंत्र… और बस कुछ विशेष मन्त्र होते हैं जिनको फूंका जाता है… लेकिन उसके लिए भी तो आवश्यक है प्रेम राग का षडज के मूल से निषाद के सहस्रार तक पहुँचने की यात्रा को पूरा करना…

पर फिर उस हठयोगी का हठ कभी कभी तार सप्तक के उस इकलौते तीव्र “म” पर जा बैठता है… जहाँ से उसको उतारना मेरे लिए भी मुश्किल हो जाता है… बड़ा मुश्किल है समझाना कि इस आरोह और अवरोह से ही तो निकलता है वो मधुर संगीत जिसमें हमें कभी कभी तालवाद्य के देवता शिव के दर्शन हो जाते हैं, और कभी कभी जीवन का सबसे बेसुरा गीत भी निकल आता है…

लेकिन फिर जीवन का हर राग सुर में ही निकले आवश्यक नहीं, जीवन का हर गीत मधुर हो यह भी आवश्यक नहीं…

महत्वपूर्ण है ऋषभ का स्वाधिष्ठान में रहते हुए गंधार के मणिपूर से गुज़रना…

तभी तो दीपक तले दुबके अँधेरे सा अचेतन मन का दुर्भाव चेतन में प्रकट हो जीवन के संतरी रंग को सतरंगी करेगा…

तभी तो चेतना के जल में हिलोरे मारता मगरमच्छ ब्रह्मा और सरस्वती द्वारा नियंत्रण का आशीर्वाद प्राप्त कर मध्यम स्वर पर विराजित हो अनाहत को अनुभव करेगा…

आत्मा की पीठ पर बनी बारह पंखुडिय़ों वाले कमल पर मंडराते भंवरे सा परमानंद और कहाँ…
लेकिन फिर अति पर खड़े हर भाव का मध्यम मार्ग पर आकर अनुशासित हो जाना भी आवश्यक है…

आवश्यक हैं विशुद्ध के पंचम का पांच तत्वों की संधि पर बैठ, धैवत की आज्ञा का पालन करना… तभी तो इस अनाहत को नाद की पीठ कहा गया है…

जीवन के सारे राग नाभि पर नहीं फूंके जाएंगे… ध्वनि को वायु देवता तुम तक पहुंचा रहे हैं…. तुम निकल तो आये हो अपनी कन्दरा से मन के कूदते फांदते हिरण के साथ… लेकिन जान लो ये जो अंतस का नीला आकाश है वही तो तुम्हारा वास्तविक घर है…

अब ज़रा इसे विश्राम दो हृदय में, जहां विराजित है संगीत और साहित्य की तरह जुड़वा अर्धनारीश्वर… चेतना और प्रकृति का मिलन स्थल… व्यवस्था और अनुशासन से ही तो संकल्प पूरे होते हैं…

और देखा जाए तो यूं कुछ भी अनिवार्य नहीं है सबकुछ ही विशुद्ध है… स्त्री पुरुष का भी भेद नहीं… मैं हूँ तो मैं ही बहुत हूँ… तुम हो तो तुम ही बहुत हो… कुछ नहीं तो वो तो है ही जो होकर भी कहीं नहीं…

बस जहाँ हो वहीं जागृत हो जाओ… तुम्हारा यह साक्षी भाव और ज्ञान सोलह कलाओं को सोलह विभूतियों के साथ खुद लेकर आएगा…

यही वो समय होगा जब तुम्हारी चेतना का सूर्य दोनों भौहों के बीच उदित होगा… और सहस्त्र कमल से बने मुकुट को अपने सर पर धारण कर तुम संसार के उन गिने चुने राजाओं में गिने जाओगे जिन्हें चुना गया है सनातन परम्पराओं और विरासत को अगली पीढ़ी तक पहुँचाने के लिए…

तुम्हारे लिखे गीत जब ब्रह्म नाद पर सवार हो किसी अचेतन मन को चैतन्य कर सके… तब समझना तुम्हारी तपस्या पूरी हुई… तब बस मुझे याद कर लेना… मैं धन्यवाद देती हुई तुम्हारे अंतस के आकाश में सबसे चमकते तारे के रूप में दिखाई दूंगी… मेरे मोक्ष का अमृत तुमने इतने जन्मों तक संभाल कर जो रखा…

– माँ जीवन शैफाली

जीवन का फ़लसफ़ा : चलो दिलदार चलो चाँद के पार चलो…

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY