राहुल 2024 की तैयारी शुरू की जाए? 2019 तो हार चुके हैं आप

‘शेर की सवारी’ – बहुत खतरनाक होती है. जब तक आप शेर पर बैठे हुये हैं, तभी तक सुरक्षित हैं. आपके उतरते ही शेर आपको मारकर खा जायेगा..

कुछ यही कांग्रेस के साथ हो गया है. कांग्रेस ने मुस्लिम कट्टरवाद को सपोर्ट किया. बाटला हाउस एनकाउंटर में पुलिस वालों का भी खून बहा, लेकिन सोनिया गांधी के आंसू सिर्फ आतंकवादियों के लिये निकले.

जब जब कांग्रेस की सरकार किसी भी राज्य में रही, उन्होंने हिन्दुओं को दबाकर मुस्लिम लोगों का हद से ज्यादा समर्थन किया. कहीं कोई छोटा मोटा भी दंगा हुआ तो गलती हमेशा हिन्दुओं की बताई गई.

पर कांग्रेस उस समय शेर की पीठ पर बैठ गई जब गोधरा में कांग्रेस समर्थित कुछ कट्टरपंथी मुस्लिम नेताओं ने दो बोगियों में आग लगवाकर 59 हिन्दू बच्चों-महिलाओं व पुरुषों को जलाकर राख कर दिया.

मेरा हमेशा से मानना है कि मुस्लिम समाज में शायद 5-10% ही कट्टरपंथी हैं, जो हिन्दुओं से नफरत करते हैं, बाकी 90% से अधिक मुस्लिम सामान्य लोग हैं जो गलती से इन कट्टरपंथियों के आगे चुपचाप झुक जाते हैं क्योंकि इन कट्टरपंथियों को कांग्रेस -सपा – बसपा – रालोद – तृणमूल कांग्रेस जैसे लोग पालते रहे हैं. साल भर पहले तक यूपी या हाल फिलहाल पश्चिम बंगाल के हालात किसी से छुपे नहीं हैं.

लेकिन अब मुकेश अंबानी जैसों की मेहरबानी से हर युवा के हाथ में मोबाइल है, और सबको दिखने लगा है कि ये सभी पार्टियां मुस्लिमों को अपना वोटबैंक बनाये रखने के लिये उनके कुछ कट्टरपंथी नेताओं को मजबूत बनाये रखकर हिन्दू मुस्लिम दंगे कराकर सरकार में रहने के अलावा कुछ नहीं चाहते.

और ऐसे समय में देश का युवा सिर्फ भाजपा पर ही भरोसा कर पा रहा है क्योंकि युवाओं को रोजगार चाहिये, दंगे नहीं. बेहतर जिंदगी चाहिये – भ्रष्टाचार नहीं.

और तो और, मुस्लिम युवा (दंगों रहित बेहतर काम करने का माहौल) व मुस्लिम महिलाओं (तीन तलाक से मुक्ति) के मन में भी मोदी के लिए एक आदर पैदा हो रहा है.

लेकिन कांग्रेस की समस्या यह है कि अगर वह इस शेर से उतरेगी तो कट्टरपंथी मुस्लिमों पर कब्जा करने के लिए सपा – बसपा – तृणमूल – राजद जैसे लोग हर समय तैयार बैठे हैं.

आज़म खान और ओवैसी जैसे मुस्लिम नेताओं की नेतागिरी तो सिर्फ हिन्दू नफरत के दम पर ही चल रही है.

अब ऐसे में कांग्रेस ईमानदारी से धर्मनिरपेक्ष बनना भी चाहे तो बचा खुचा मुस्लिम वोट भी उससे छिटक जायेगा.

और हिन्दुओं को तो यह पार्टी इतनी बार इतनी चोट दे चुकी है कि वो भी इसको अपना नहीं समझ पा रहे.

सॉरी राहुल गांधी. आप इस शेर से उतर नहीं सकते, शेर आपको खा जायेगा. और जब तक आप इस शेर से उतरोगे नहीं, हिन्दू आप पर भरोसा कर ही नहीं सकता..

तो कांग्रेसियों, 2024 के चुनाव की तैयारी शुरु की जाये?? क्योंकि 2019 तो आप पहले ही हार चुके हैं.

और हां.

जय हिंद.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY