अभिव्यक्ति डॉ अव्यक्त की : जानिये क्या है आकस्मिक हृदयाघात

आकस्मिक हृदयाघात से मृत्यु के अनेक केस आप समय समय पर सुनते रहते हैं.

हाल में हमारे देश की एक महान अभिनेत्री श्रीदेवी जी के निधन के बाद अखबारों एवं सोशल मीडिया पर इस विषय पर अनेक लेख वैज्ञानिक ज़िल्द में अवैज्ञानिक कल्पनाओं को शब्द देने वाले लिखे गए.

सोचा सही समय है sudden cardiac arrest के विषय में आप सबको बताने का.

Sudden Cardiac Arrest Prevalence, कितनी संख्या में होता है? :

अमेरिका में प्रतिवर्ष sudden cardiac arrest से 3.5 लाख लोगों की मृत्यु हो जाती है. भारत में सही आंकड़े तो नहीं है, लेकिन अनुमानित 10 लाख मृत्यु प्रतिवर्ष इसकी वजह से होती हैं.

उपरोक्त मृत्यु संख्या में से दो तिहाई वे होते हैं जिनमें हृदय की बीमारी के पूर्व में कोई भी लक्षण नहीं होते हैं. एवं ऐसा व्यक्ति फिट, स्वस्थ दिखाई देने वाला हो सकता है.
अधिकांशतः कोई भी चेतावनी चिन्ह नहीं होते हैं एवं व्यक्ति की धड़कन अचानक कभी भी, कहीं भी रुक जाती है.

लक्षण:

1. अचानक हृदय गति बंद हो जाना
2. रक्त प्रवाह मस्तिष्क को बंद हो जाने से बेहोश हो जाना.
3. सांस का रुक जाना.

मैकेनिज्म एवं कैसे यह heart attack से अलग है:

अचानक हृदयाघात का मुख्य कारण हृदय की मांसपेशियों को मिलने वाली विद्युत् तरंगों का असामान्य हो जाना है.

कहने का तात्पर्य जैसे बिजली का स्विच बंद करने पर अचानक बल्ब का बंद हो जाना, कुछ वैसा ही.

हृदय के ऊपरी सीधे हाथ वाले चैम्बर atrium में एक साइनस नोड नाम का एक बेहद छोटा पावर हाउस होता है जो लगातार electrical impulses सही लय में भेज हृदय की मांसपेशियों को गतिशील रखता है. जीवन भर. है न कमाल की बात?

लेकिन, दुनिया में 4 अरब वर्षों के विकासक्रम के बाद हमें यह हासिल हुआ है. आप और मैं डीएनए के किसी न किसी रूप में 4 अरब वर्षों से जीवित रहते हुए इस जटिल स्वरूप को प्राप्त हुए हैं. इस रूप में हम अब तक अमर हैं आप गहराई से समझें तो. मात्र हमारे ऊपरी शरीर बदले हैं.

हृदय मांसपेशियों से बना एक अद्धभुत पंप है ऑक्सीजन युक्त रक्त को शरीर में पंहुचाने वाला.

तो हार्ट अटैक, जिसमें हृदय की मांसपेशियों को कोरोनरी धमनियों के अवरुद्ध होने की वजह से रक्त प्रवाह नहीं मिलता जिससे हृदय में तीव्र दर्द उठता है,हृदय पंप न कर पाने की वजह से रक्त से चैम्बर भर जाता है.
एवं देर होने पर मृत्यु हो सकती है.

अतः हार्ट अटैक या myocardial Infarction जहां हृदय का plumbing defect है तो sudden cardiac arrest..
Electrical failure है.

हालांकि हार्ट अटैक होने पर भी electrical failure हो कर sudden Cardiac Arrest हो सकता है. किंतु अधिकांश sudden cardiac arrest प्राथमिक रूप से electrical impulses के असामान्य होने से होते हैं. जिनमें सबसे प्रमुख प्रकार ventricular fibrillation कहलाता है.

किन व्यक्तियों में अधिक होता है?

1. पुरुषों में महिलाओं की तुलना में दो गुना अधिक केसेस होते हैं.

2. 40 वर्ष की उम्र के बाद इसके केसेस में काफ़ी बढ़ोतरी होती है.

3. हार्ट अटैक के सभी रिस्क फैक्टर जैसे, मोटापा, स्मोकिंग, diabetes, तनाव यहां भी लागू होंगे.
किन्तु यह पूर्णतः फिट, सामान्य दिखते व्यक्ति में भी होता है.

4. बचपन से किसी हार्ट की बीमारी का होना.

क्या करें:

मैं बेसल लाइफ सपोर्ट का जोनल ट्रेनर भी हूँ. इस लिहाज से बता दूं कि, सही समय पर cardiopulmonary resuscitation मिलने पर काफी मरीजों को बचाया जा सकता है.

विदेशों में मॉल, बाज़ारों, स्टेशन पर AED नाम की मशीनें हार्ट को इलेक्ट्रिकल शॉक देने की लगी होती हैं जगह जगह. जिनका उपयोग कुछ घंटों का BLS course किया हुआ आम व्यक्ति भी कर सकता है.

ज़ल्द ही यूट्यूब वीडियो बनाऊंगा मुझसे जुड़े मित्रों को सिखाने कि वे क्या कर सकते हैं जान बचाने में किसी अपने या किसी अन्य इंसान की.

क्या कॉस्मेटिक सर्जरी से sudden cardiac arrest हो सकता है? उपरोक्त विवरण से आप समझ गए होंगे कि नहीं..

यह एक भ्रामक कल्पना मात्र है जिसे चिकित्सकों द्वारा कहा गया कह कर वायरल कर दिया गया. जो कि एक असंवेदनशील बात है.

हाँ कुछ अवैध दवाएं जैसे कोकेन, amphetamine का सेवन sudden cardiac arrest करवा सकता है.

Comments

comments

loading...

1 COMMENT

  1. Dear Dr. Agrawal your efforts of awareness for people are quite good, I appreciate you.
    I want to know about some indigenous plants used as immunomodulators, proven to improve body immunity, please let me know about the same. Thanks

LEAVE A REPLY