सोनिया के दामाद की संस्था की जांच कर सकेगा आयकर विभाग

नई दिल्ली. सोनिया गांधी के दामाद और कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के बहनोई रॉबर्ट वाड्रा को दिल्ली हाईकोर्ट ने बड़ा झटका दिया है.

दिल्ली हाईकोर्ट ने वाड्रा से संबद्ध एक संस्था की उस याचिका को खारिज कर दिया जिसमें आयकर विभाग के एक नोटिस को चुनौती दी गई थी.

इस नोटिस में संस्था को वर्ष 2010-11 में हरियाणा और राजस्थान में हुए भूमि सौदों से हुए फायदों का पुनर्मूल्यांकन के लिए कहा गया था.

उच्च न्यायालय के समक्ष रखी गई टैक्स चोरी से जुड़ी एक रिपोर्ट में आयकर विभाग ने कहा है कि उनके पास यह मानने के कारण हैं कि वर्ष 2010-11 में संस्था द्वारा कमाए गए लाभ में से 35 करोड़ से ऊपर की राशि को मूल्यांकन से बचा लिया गया.

टैक्स चोरी की इस रिपोर्ट पर संज्ञान लेते हुए दिल्ली हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और न्यायमूर्ति चंद्र शेखर की एक पीठ ने कहा, “कारणों पर ध्यान देने के बाद, हम इस बात से संतुष्ट हैं कि यह मानने का कारण है कि आय को मूल्यांकन से बचाया गया है, जिस कारण नोटिस जारी करना जरूरी था.”

इसके साथ ही अदालत ने संस्था स्काई लाइट हॉस्पिटेलिटी एलएलपी को 19 फरवरी को मूल्यांकन अधिकारी के समक्ष कार्यवाही के लिए पेश होने का निर्देश भी दिया.

पीठ ने कहा, “नोटिस जारी करने को उचित ठहराने के लिए सबूत और सामग्रियां मौजूद हैं.” साथ ही कहा कि जब तक मूल्यांकन अधिकारी द्वारा ईमानदार और मुनासिब मत बनाया गया है और केवल शक के आधार पर कारण नहीं दिए गए हैं तब तक अदालत को न्यायित निर्णय की प्रक्रिया को रोकने में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए.

पीठ ने संस्था की उस याचिका को भी खारिज कर दिया जिसमें उसने कहा है कि आयकर विभाग ने गलत कंपनी यानि स्काई लाइट हॉस्पिटेलिटी प्राइवेट लिमिटेड की बजाए स्काई लाइट हॉस्पिटेलिटी एलएलपी को यह नोटिस भेजा है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY