स्वरोज़गार : सोयाबीन, कम लागत में अधिक मुनाफा

कुछ दिन पहले मैंने आपको Soybeans के बारे में बताया था. सबसे सस्ता और सुलभ Source प्रोटीन का. Cholestrole फ्री.

Soybeans के बारे में जो भी भ्रांतियां फैलाई गई हैं वो सब अमेरिका की Cow Milk Lobby ने paid news के द्वारा फैलाई हैं और पूरी तरह आधारहीन हैं.

ये एक वैज्ञानिक तथ्य है कि Soybeans में Lypoxygenase नामक एक तत्व होता है जो कि मानव पाचन तंत्र में प्रोटीन के Absorption — digestion को डेढ़ घंटा तक delay कर देता है. जिससे पूरा प्रोटीन पचता नही है. इसके ऊपर अमरीका की Illinois यूनिवर्सिटी में एक वृहद रिसर्च हुई है.

उन्होंने Lypoxygenase को neutralize करने का तरीका भी खोज लिया है और तभी USFDA ने अमरीका में Soy Milk और Soy food को approve किया है.

आज स्थिति ये है कि पूरा अमरीका Europe और चीन समेत पूरा Asia का बाजार Soymilk से पटा पड़ा है.

यूँ भारतीय बाज़ार में तो आप कुछ भी बेच सकते हैं पर अमरीकी बाजार में कोई भी substandard चीज़ लंबे समय तक नहीं बेची जा सकती. इसलिए निश्चिन्त रहिए, soybeans पूरी तरह safe है. Cow Lobby के दुष्प्रचार पे ध्यान मत दीजिये.

अब आइये Soy Beans से स्वरोजगार पर

1) बाजार से साफ सुथरा, छंटा हुआ बड़े दाने वाला Soybean लीजिये. सीधे किसान से लिया हो तो उसमें से हरा दाना निकाल लीजिए और झरने से छान के छोटा दाना अलग कर लीजिए. उच्च गुणवत्ता के लिए बड़ा मोटा स्वस्थ दाना लेना अनिवार्य है. सस्ते के चक्कर मे quality से compromise मत कीजिये.

2) उसे साफ कर पानी में भिगो दीजिये. ध्यान रहे कि Soybeans में सड़न बहुत जल्दी होती है इसलिए सिर्फ 5 घंटे भिगाना पर्याप्त होता है. खासकर गर्मियों के मौसम में ज़्यादा समय तक भिगा देने पे झाग छोड़ देता है और उसका स्वाद बिगड़ जाता है.

3) भीगे soybeans को धो साफ कर खौलते पानी में उबलने के लिए डाल दीजिए. पहला उबाल आने पर gas को Sim पे कर के ढक दें और घड़ी देख के 16 मिनट हल्की आंच पे उबलने दें. 16 मिनट तक Soybeans को 90 डिग्री से ज़्यादा तापमान पर गर्म करने से Lypoxygenase निष्क्रिय हो जाता है ( वैज्ञानिक तथ्य है. ज़्यादा जानकारी के लिए Illinois यूनिवर्सिटी के रिसर्च पेपर्स पढ़िए . मैंने पढ़े हैं इसलिए इतना confidence से बोल रहा हूँ )

4) 16 मिनट उबालने के बाद Soybeans को खुले पानी मे 2 – 3 बार धो लीजिये. कुछ लोग Dehusked अर्थात छिलका उतरा हुआ Soybean लेते है. इस से इसका दूध एकदम सफेद बनता है जबकि छिलके वाला लेने पे रंग off white होता है. कुछ लोग उबले Soybeans को रगड़ के भी छिलका उतार लेते हैं. the Choice is yours.

5) अब आपका Raw Material तैयार है. दो बड़े Table स्पून beans को थोड़ा सा पानी डाल के mixer में इसका fine paste बना लीजिए और फिर इसमे लगभग 350 ml पानी डाल लें. milk की thickness अपने taste और ज़रूरत के हिसाब से adjust करें.

6) अब इस milk में सौंफ, छोटीलायची पीस के डालने पे ठंडई flavour या फिर कोई भी अन्य flavour बना लें जैसे Rooh Afza, orange, strawberry, vanilla इत्यादि. आप इनमे fresh fruits, orange, pineapple, Mango, आड़ू, plum, आलूबुखारा इत्यादि कुछ भी डाल के विभिन्न shakes और Smoothies बना सकते हैं. अपनी recipe स्वयं बनाइये. experiments कीजिये. ये सारी recipes मीठी होंगी.

7) पर मेरी सबसे पसंदीदा recipe है Soya लस्सी …….. बेहद आसान. थोड़ा गाढ़ा Soya Milk बनाइये. जैसे लस्सी दूध से गाढ़ी होती है न वैसे ही. उसमे थोड़ा नमक, भुना पिसा जीरा, और एक नींबू निचोड़ दीजिये (स्वादानुसार) और शानदार Soya लस्सी का मज़ा लीजिये.

स्वरोजगार के रूप में इसे शुरू करने के लिए चाहिए सिर्फ एक Mixer Grinder जो आजकल हर घर में है. और कुछ basic बर्तन, कांच के या Disposable Glasses. बिना पूंजी के Startup शुरू.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY