मुद्रा लोन लेने बैंक से संपर्क करने से पहले यह पढ़ लीजिए

मुद्रा लोन के लिए apply करने से पहले ये देखिये कि इस काम को करने में मुझे कितना interest आ रहा है, ये काम कैसे होगा, raw material कैसे और कहां से आएगा… काम करने की मेरे पास जगह कौन सी है, जो माल बनेगा या जो माल लाकर में बेचना चाहता हूँ उसका मार्केट भी है आसपास?

मार्केट है भी तो मेरा माल कितना बिकेगा अगर पहले से स्थापित दुकानदार वही काम वर्षों से कर रहे हैं..

ऐसे तमाम points है, check list है… काम का पूरा खाका अपने दिमाग मे स्पष्ट रखिये… और काम अपने बलबूते पर ही शुरू कीजिए…

कोई आकर सलाह दे गया कि फलां काम करो, बहुत कमाई होगी… उसे सुनकर निकाल दो… बाजार में घुसो और खुद देखो… जो पहले से वो काम कर रहा है उससे मिलो और समझो…

कोई आकर कहता है कि उसे सब मालूम है, तुम शुरू करो, मैं बताता जाऊंगा… तो बिल्कुल न शुरू करो… आपका काम है, आपको आना चाहिए…

ज्यादा नही तो थोड़ा पैसे का भी backup बना कर रखो…

वैसे तो सैकड़ों बातें हैं जो कोई काम शुरू करने से पहले आपको देखनी समझनी होंगी… पर बैंक में मुद्रा लोन जैसी योजनाओं का लाभ उठाने के लिए कुछ पॉइंट्स क्लियर रखिये…

1. नया काम शुरू करने जा रहे हैं और करीब 50,000 या अधिक का लोन चाहिए तो किये जाने वाले काम का एक खाका कुछ पेपर्स पर उतारिये… काम क्या है, माल कहाँ से लाएंगे, कितना लाना है, उतना क्यों लाना है, उतना बेच सकेंगे?

यदि हां, तो कैसे… ये सब डिटेल लिख रखिए… इसे कहते हैं project report… जरूरी नही है, पर रहेगी तो बेहतर रहेगा… आपके लिए कम, बैंक मैनेजर के लिए ज्यादा…

2. जरूरी कागजात जैसे आधार, पैन, DL, काम का लाइसेंस, दुकान का रजिस्ट्रेशन, दुकान का अड्रेस प्रूफ… इसमें दुकान का रेंटल अग्रीमेंट, बिजली का बिल चलेगा… ये सब तैयार रखें…

3. बैंक जाना आना सीखिए, account ठीक ठाक मेन्टेन रखिये… जिस बैंक में account हो वहीं लोन के लिए approach कीजिये, ठीक रहता है…

4. हवा हवाई बातें मत कीजिये… “अरे ये काम बहुत चलेगा”, “फलाना इस काम से लाखों कमाया”, “मुझे सब मालूम है, कहीं देखने जाने की जरूरत नही” आदि…

5. एकदम से ही बड़े स्तर पर काम शुरू हो जाये, लाखों का लोन मिल जाये ऐसा सोचना थोड़ा avoid कीजिये… ये केवल सलाह है… कम amount का लोन मांगिये, product या services की एक cycle पूरी हो जाये इतना ही पहली stage में अमाउंट release करवाइये… एक दो installment जमा कीजिये, फिर बाकी पैसा लीजिये…

6. माल खरीदने के लिए पहले से ही quotation अपने मन की न बना के चलिए… इसके लिए बैंक से परामर्श करके quotation बनवाइए…

7. कितना माल लाना जरूरी है, ये जस्टिफाई करिये मैनेजर से…

8. सबसे जरूरी यही होता है कि मैनेजर को पूरा विश्वास हो जाये कि आप वास्तव में काम करने के इच्छुक हो, आपको काम के बारे में जरूरी जानकारी है, आपका product या service बाजार की demand के अनुसार ठीक ठाक चलेगा, आप installment पे करने में आनाकानी नहीं करेंगे…

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY