सेना और शहीदों का अपमान तो 30 नवम्बर 2008 की रात हुआ था राहुल

सेना और शहीदों का अपमान कल दिए गए मोहन भागवत के बयान से नहीं 30 नवम्बर 2008 की रात को राहुल गांधी के उस आचरण से हुआ था.

सेना और शहीदों के प्रति सम्मान की धज्जियां कल दिए गए मोहन भागवत के बयान से नहीं 30 दिसम्बर 2008 की रात को राहुल गांधी के उस आचरण से उड़ी थीं.

राहुल गाँधी को शायद याद नहीं है. लेकिन देश नहीं भूला है 30 नवम्बर 2008 की रात.

उस रात दिल्ली में छतरपुर से आगे रईसज़ादों की रंगीन रातों के पंचतारा अड्डे की पहचान वाले राधेमोहन चौक स्थित एक शानदार फार्महाउस में राहुल गांधी के दोस्त समीर शर्मा की शादी से पहले की रस्म ‘संगीत’ का जश्न मनाया जा रहा था.

उस जश्न में जिस समय राहुल गांधी मध्यरात्रि से लेकर सवेरे 5 बजे तक नाच-गाने और बेहतरीन खाने-‘पीने’ का जमकर लुत्फ़ ले रहे थे उस समय 26 नवम्बर से 28 नवम्बर तक मुम्बई में पाकिस्तानी आतंकवादियों द्वारा खेली गयी खून की होली में शहीद सेना के दो कमांडों और मुम्बई पुलिस के 15 जवानों समेत मारे गए 138 हिंदुस्तानियों तथा 28 विदेशी नागरिकों में से 90% की लाशों का अंतिम संस्कार भी सम्पन्न नहीं हो पाया था.

अपने माता पिता की इकलौती सन्तान, सेना के शहीद कमांडों मेजर सन्दीप उन्नीकृष्णन तथा उनके दूसरे शहीद साथी कमांडो हवलदार गजेन्द्र सिंह समेत मुम्बई पुलिस के 15 शहीद जवानों के माता पिता की आँख के आंसू भी तब तक नहीं रुके थे.

देश सम्भावित युद्ध की भयानक आशंका में डूबा हुआ था. ऐसे समय में देश के तत्कालीन सत्ताधारी दल का भावी कर्ताधर्ता, उसका युवा सांसद और अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी का वर्तमान राष्ट्रीय अध्यक्ष दिल्ली के एक पंचतारा फार्महाउस में सारी रात नाच-गा रहा था, मौज मस्ती में डूबा हुआ था.

आज उपरोक्त प्रकरण का उल्लेख इसलिए क्योंकि… आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत कल जब यह कहा कि कि…

“अगर जरूरत पड़ी तो आरएसएस के कार्यकर्ता देश के लिये लड़ने की खातिर तैयार है. सेना को तैयारी में 6 महीने का समय लगेगा लेकिन आरएसएस के स्वयंसेवकों में तीन दिन के भीतर सेना तैयार करने की क्षमता है. हम मिलिट्री नहीं हैं लेकिन हमारा अनुशासन मिलिट्री जैसा ही है.”

उनके इस बयान पर राहुल गांधी और कांग्रेसी फौज ज़ोरशोर आग बबूला होने का पाखण्ड करते हुए कह रही है कि मोहन भागवत के इस बयान से सेना और शहीदों का अपमान हुआ है.

30 नवम्बर 2008 की रात राहुल गांधी की मौज मस्ती की खबर देखें – Rahul in party mood soon after Mumbai crisis

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY