किसी और से तुलना करना ही खुदको गरीब करना है

मैं जब बड़े – बड़े अद्भुत बंगले देखता हूं, बड़ी और कीमती cars देखता हूं, बड़े रईसों को देखता हूं, टाटा बिड़ला को देखता हूं, मुकेश अंबानी को देखता हूं, तो मैं खुद को गरीब महसूस करता हूं… मैं सोचता हूं मेरी क्या औकात है, मेरे पास क्या है.. मेरा जीवन व्यर्थ है, मैं धरती पर रेंगता एक कीड़ा हूं..

फिर इसी तनाव को लिए मैं चाय पीने सड़क के किनारे चाय की दुकान पर पहुंचता हूं, तनाव में अपनी गरीबी को कोसता हुआ चाय के गिलास धोते हुए छोटू को देखता हूं.. मैं सोचता हूं, गरीब तो मैं हूं, रेंगता कीड़ा तो मैं हूं.. फिर ये छोटू कौन सा जीव है, मैं कीड़ा हूं तो ये तो जीवाणु हुआ, कोई बैक्टीरिया हुआ.. मेरा जीवन व्यर्थ है तो फिर इसका जीवन क्या है ?… मैं गरीब हूं तो फिर ये क्या है ?

मेरा काम मुझे सम्मानजनक जीवन जीने लायक जीविका देता है, बढ़िया भोजन कर सकता हूं, घर – गाड़ी सकता हूं, किसी की मदद भी कर सकता हूं.. फिर को क्या है जो मुझे गरीब feel करवाता है ?… मैं भोजन, वस्त्र, गाड़ी, घर लेने में सक्षम हूं फिर भी गरीब क्यों feel karta हूं ? .. मेरी सभी बेसिक नीड्स पूरी हो रही है फिर भी असंतोष क्यों समय समय पर आता है?

वो इसलिए कि मैं खुद की दूसरों से तुलना करता हूं.. मैं सक्षम होकर भी गरीब महसूस करता हूं..

मैं देखता हूं, लोगों के पास घर है, भोजन है, महीने की तनख्वाह है, भविष्य के लिए बचत है.. पर वो कहते हैं कि हम गरीब आदमी हैं..

किसान के पास जमीन है, खेती कर रहा है, साल भर खाने और बाजार में बेचने के लिए अनाज पैदा कर रहा है, शहर वालों से बढ़िया और शुद्ध खा रहा है, एकाध बाइक भी है, तीज त्योहार बढ़िया मना रहा है, रिश्तेदारी शहर वालों से बढ़िया निभा रहा है, पर वो गरीब है, गरीब महसूस करता है.. गरीबी कभी कभी हमारे मन में भी होती है..

आप बढ़िया नंबर से पास हुए है और खुश है, तभी आपको पता चलता है कि पड़ोसी का लड़का मुझसे 2% ज्यादा ले आया है, अब आपकी खुशी काफूर, अब आप उस नंबर से दुखी हैं जिससे 1 सेकेंड पहले खुश थे.. आप गरीब महसूस करने लगे..

गांव में काम कर रहा हूं, देखता हूं तो हर एक खुद को गरीब सिद्ध कर देना चाहता है.. बाइक से आकर, बढ़िया मंहगा एंड्रोएड फोन निकालकर कहता है “बहुत गरीब मनई हूं”…

गरीबी की परिभाषा क्या हो?.. गरीब कौन है, सरकारें तय नहीं कर सकतीं.. आपको खुद तय करना होगा.. आपको भोजन, वस्त्र, आवास उपलब्ध है, आप उसे कमाने के लिए मेहनत कर सकते हैं तो आप गरीब नहीं है भाई.. आप कार या बाइक नहीं खरीद पा रहे हैं तो भी आप गरीब नहीं है..

अक्सर किसी और से अपनी तुलना करना आपको गरीब महसूस करवाता है.. ये बंद कर दीजिए, आप गरीबी से बाहर आ जाएंगे..

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY