ऐसी औरत को कभी प्रेम मत करो

ma jivan shaifaly poem last laughter

ऐसी औरत को प्रेम मत करो
जो पढ़ती है,
महसूसती है और लिखती भी है

एक पढ़ी लिखी,
भ्रममुक्त, जुनून जीती हुई औरत के साथ तो कभी प्यार में मत पड़ना

एक ऐसी औरत जो सोचती है,
जानती है कि वह क्या जानती है,
उड़ान भरना जानती है
और उससे ज्यादा अहम कि खुद को जानती है
उससे भी नहीं

जो हंसती है,
अपने अहसास को जिस्म देती है
और उसे तो छोड़ ही दो जो कविताओं में जीती है (सबसे ख़तरनाक प्रकार)

पेंटिंग करने के पहले आधा घंटा सोचती है
और संगीत के बिना ज़िंदा नहीं रह सकती उसके बारे में सोचना तो छोड़ ही दो

ऐसी औरत जो टेलीविजन देखती ही नहीं उसको प्यार मत करना
ऐसी औरत को भी नहीं जिसकी खूबसूरती चेहरे और जिस्म पर नहीं निर्भर है

एक शिद्दत से जीती हुई, मज़ेदार, पारदर्शी, बेजोड़ और कभी कभी बेतुकी भी हो
उसके प्यार में मत पड़ जाना

क्योंकि जब ऐसी औरत से प्यार करने लगोगे
तब वो तुम्हारे साथ रहे न रहे, तुम्हें प्यार करे न करे
मगर तुम उसके प्यार से फिर लौट कर नहीं आओगे
वहीं रह जाओगे..

– Martha Rivera Garrido द्वारा रचित मूल अंग्रेजी से अनूदित

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY