योगी को मोदी से सीखना होगा कि कैसे उतरा जाता है शेर से

2009 में Satyam Computers का corporate घोटाला सामने आया था.

इसके मालिक रामालिंगा राजू ने कंपनी के एकाउंट्स में 7 हज़ार करोड़ रूपए का घपला किया था.

उसने अपने मुनाफे को बढ़ा चढ़ा के बताया था जिससे कंपनी के शेयर्स के दाम बेतहाशा बढ़ गए.

पर जब हक़ीक़त सामने आई तो कंपनी के शेयर्स धड़ाम हो गए और निवेशकों को 14000 करोड़ रुपये से ज़्यादा का नुकसान हुआ.

निवेशक कौन थे? हमारे आपके जैसे आम आदमी जो अपने खून पसीने की कमाई में से थोड़ा सा पैसा बचा के शेयर मार्किट में निवेश करते हैं.

घोटाला सामने आने के बाद 500 रूपए का शेयर सिर्फ 11 रूपए का रह गया था.

सत्यम घोटाले को पकड़ा किसने था?

किसी ने नहीं… जब स्थितियां बेकाबू होने लगी तो रामालिंगा राजू ने खुद ही सब उगल दिया.

अपने इस घोटाले को रामालिंगा राजू ने खुद अपने ही शब्दों में कुछ इस तरह बयान किया था… मैं शेर की सवारी कर रहा था… बस मुझे शेर से उतरना नहीं आया… जब उतरा तो शेर मुझे खा गया…

उत्तरप्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शेर की ही सवारी कर रहे हैं.

उन्होंने भी शेर पे ही सवार हो के यूपी की गद्दी सम्हाली है. योगी एक प्रशासक के रूप में नये हैं. उनको मोदी जी से कुछ सीखना चाहिए.

मोदी भी शेर की ही सवारी कर रहे थे जब गुजरात में गोधरा हुआ… गोधरा के बाद मुसलमान तो सहम के बिलों में घुस गए और हिन्दू fringe सड़कों पे आ गए.

गोधरा से उपजे ध्रुवीकरण से मोदी ने अगला चुनाव बड़ी आसानी से जीत लिया.

इसके बाद मोदी ने जो पहला काम किया वो ये कि हिन्दू fringe elements अर्थात विहिप, बजरंग दल, दुर्गा वाहिनी जैसे संगठनों को और प्रवीण तोगड़िया जैसे इनके नेताओं को सख्ती से कंट्रोल किया.

हिन्दू fringe बहुत कसमसाये छटपटाये पर मोदी का प्रशासनिक शिकंजा इतना तगड़ा था कि उसने इन्हें हिलने भी नही दिया और मोदी जी ने प्रदेश को उन्नति प्रगति और विकास के रास्ते पे आगे बढ़ाया…

प्रदेश में पूरी तरह सुख शांति समृद्धि का माहौल बना… मुसलमान और हिन्दू, दोनों fringe को मोदी ने जंगली शेर से पालतू बनाया और कभी किसी को चूं भी नही करने दिया.

यूपी में 20 साल से भी ज़्यादा लंबी अराजकता के बाद अब योगी जी के नेतृत्व में भाजपा शासन आया है… कासगंज ने योगी जी का गोधरा करा दिया है…

अब यूपी में योगी जी को भी मोदी वाला फॉर्मूला लागू कर देना चाहिए और जिस सख्ती से मोदी ने गुजरात में fringe को काबू किया था उसी सख्ती से योगी जी को भी करना चाहिए.

यूपी विकास की दौड़ में पहले ही बहुत पिछड़ चुका है. और विकास के लिए सबसे पहली शर्त शांति और सख्त क़ानून-व्यवस्था होती है.

योगी जी ने पहले 9 महीने में गुंडे बदमाश माफिया को तो बखूबी कंट्रोल कर लिया है, अब कासगंज के बाद उनको चाहिये कि एकदम सख्त निर्मम हो के मुस्लिम और हिन्दू दोनो किस्म के fringe को कंट्रोल करें…

योगी जी के सामने समस्या ये आएगी कि वो मुसलमान को तो आसानी से कंट्रोल कर लेंगे… असली शेर तो हिन्दू fringe हैं… और उसी शेर पे सवार हो के योगी जी यहां तक आये हैं… कल तक उनकी गिनती खुद fringe में ही होती थी…

आज योगी जी शेर पे सवार हैं… अब कासगंज के बाद वो समय आ गया है कि इस शेर से उतर के इसे पट्टा पहना के बांध दिया जाए, वरना रोज़ नए कासगंज होंगे… योगी जी को मोदी जी से सीखना होगा कि शेर से कैसे उतरा जाता है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY