यादों के झरोखे से : जब जगजीवन राम के बेटे ने पिता के बंगले पर धरना दिया

  • मनमोहन शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार

1958 की बात है. मैंने जैसे ही हिन्दुस्थान समाचार के दफ्तर में कदम रखा अचानक एक पुलिस अधिकारी ने मुझे सूचना दी कि संचार मंत्री बाबू जगजीवन राम की कोठी के बाहर उनके बेटे और नवविवाहिता पुत्रवधू ने धरना दे दिया है.

[यादों के झरोखे से : जब DTC की बसों में धक्के खाते सफ़र करते थे अटल जी]

यह मेरे लिए एक महत्वपूर्ण समाचार था. इसलिए मैं तुरन्त हेस्टिंग रोड स्थित बाबूजी की कोठी की ओर रवाना हो गया.

यहां यह उल्लेख करना ज़रूरी है तब मुझे दिल्ली में पत्रकारिता जगत में आए हुए मात्र एक साल हुआ था. इसलिए मैं अपना रंग जमाने के लिए सदा एक्सक्लूसिव खबरों की जुगाड़ में रहता था.

[यादों के झरोखे से : जब नेहरू ने डटकर किया गद्दार जनरल का बचाव]

जब मैंने रास्ते में अपने कुछ सूत्रों से बातचीत की तो यह पता चला कि बाबूजी के इकलौते बेटे सुरेश राम ने एक पंजाबी महिला से बिना बाबूजी की मर्जी के विवाह रचा लिया है.

इससे नाराज होकर बाबू जगजीवन राम ने अपने बेटे और उसकी नवविवाहिता पत्नी को घर से निकाल दिया है और इन दोनों ने बाबूजी के बंगले के बाहर सड़क पर धरना दे रखा है.

जब मैं मौके पर पहुंचा तो बाबूजी की पत्नी इंद्रानी देवी बेटे को समझाने-बुझाने का प्रयास कर रही थीं और बंगले के बाहर पुलिस का कड़ा पहरा था.

[यादों के झरोखे से : जब संसद में महावीर त्यागी ने बंद कर दी नेहरू की बोलती]

बाद में विभिन्न सूत्रों से जानकारी प्राप्त करने पर पता चला कि सुरेश ने जिस महिला से शादी की है वह पंजाबी है और ईस्टर्न कोर्ट में टेलीफोन ऑपरेटर के रूप में कार्यरत है.

बाबू जगजीवन राम द्वारा इस विवाह के विरोध के कारणों की चर्चा राजनीतिक गलियारों में गर्म थी.

बाबूजी के समर्थकों का कहना था कि इस पंजाबी महिला ने अपनी उम्र से 18 वर्ष छोटे सुरेश को अपने जाल में फंसा लिया है. इसलिए बाबूजी इसका विरोध कर रहे हैं.

जबकि अन्य लोगों का कथन था कि जिस महिला से सुरेश ने शादी की है उससे बाबू जगजीवन राम के नजदीकी संबंध थे. इसलिए बाबूजी को यह विवाह पसंद नहीं आया.

[यादों के झरोखे से : ऐसे थे पंडित दीनदयाल उपाध्याय]

मेरे लिए यह धमाकेदार खबर थी इसलिए मैं तुरन्त अपने दफ्तर में पहुंच गया. जैसे मैं खबर की कॉपी लिख रहा था कि हिन्दुस्थान समाचार के तत्कालीन महाप्रबंधक बालेश्वर अग्रवाल मेरी सीट पर आए और उन्होंने मुझसे पूछा ‘तुम कहां गए थे?’

जब मैंने उन्हें सारी रामकहानी सुनाई तो उन्होंने मुझे निर्देश दिया कि यह समाचार हिन्दुस्थान समाचार से प्रसारित नहीं होगा.

यह मेरे लिए करारा झटका था और मैं बालेश्वर जी से उलझ पड़ा. मगर वो टस से मस नहीं हुए. पत्रकार के रूप में यह मेरा पहला अनुभव था कि कोई खबर रोकी भी जा सकती है.

सुरेश का यह धरना एक सप्ताह तक जारी रहा. बाद में पिता-पुत्र में सुलह हो गई और बाबूजी ने इस नवदम्पति के लिए डिफेंस कॉलोनी में एक बंगले की व्यवस्था कर दी.

इस विवाह के फलस्वरूप सुरेश के घर एक पुत्री पैदा हुई. जिसे मेधावी कीर्ति का नाम दिया गया. जनता पार्टी के शासनकाल में वह हरियाणा सरकार में मंत्री भी थी. एक धूमकेतु के रूप में वह राजनीतिक क्षितिज पर अचानक प्रकट हुई और फिर लुप्त हो गई.

सुरेश और इस पंजाबी महिला की ज्यादा देर तक निभ न सकी और दोनों एक-दूसरे से अलग हो गए. यह पंजाबी महिला आज भी डिफेंस कॉलोनी के इसी बंगले में रह रही है.

जनता पार्टी के शासनकाल में सुरेश के मेरठ की एक जाट लड़की से भी आंतरिक संबंध बनें. इन दोनों के फोटो उन दिनों काफी देर तक दिल्ली की राजनीति के गलियारों में चर्चित रहे.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY