ईश्वर हमारे पड़ोस में दूसरा रवांडा, सीरिया, यमन, इथियोपिया न बनाए!

इमरान खान पाकिस्तानी क्रिकेटर और राजनेता, जब पाकी क्रिकेट संघ का कर्णधार था तब उस पर लड़कियां जान न्योछावर करती थी. उस की एक नजर की कायल थी. उसके एक बोल पर पागल होती थी. बन्दा प्लेबॉय कहलाया जाता था.

जब उसने शादी की तो वह भी लन्दन की एक अमीर गोरी से. नाम था जेमिमा.

बंदी सब कुछ छोड़ पाकिस्तान आई और क्रिकेट से निवृत्ति के बाद का इमरान का सियासी ड्रामा और कट्टर परिवेश सहन करती रही, उसके बच्चे पालती रही.

आखिर 9 वर्ष के लम्बे सहवास के बाद उसकी सहनशीलता जवाब दे गई, और वह उसे तलाक दे कर वापस लन्दन चली गई.

उस के 11 वर्ष बाद इमरान साहब का फिर दिल हुआ गृहस्थी बसाने का!

बीबीसी और पाकिस्तानी चैनलों पर एंकरिंग करने वाली तलाकशुदा और 3 बच्चों की माँ रहम नय्यर से 2015 जनवरी में शादी की और उसी वर्ष अक्तूबर में टूटी भी!

शायद तब 63 वर्ष के इमरान और 42 वर्ष की रहम अपने अंदाजों में इतने जम चुके थे कि तालमेल बैठ नहीं पाया.

अब सुन रहे हैं कि 65 वर्षीय इमरान की नज़र में तलाकशुदा, 45 वर्षीया, और 5 बच्चों की माँ बुशरा मानिका आई है और उन्होंने ‘वह अहम सवाल’ पूछ भी लिया है.

लेकिन हाय री किस्मत! बुशरा ने विचार करने और… बच्चों से पूछने के लिए और समय माँगा है! तो जाहिर है कि इमरान मियां आजकल हाथ मलते, धड़कते दिल के साथ उत्तर की प्रतीक्षा में बैठे है!

इमरान की पैदाइश 1952 की है, और पाकिस्तान की पैदाइश 1947 की! इन दोनों की ज़िंदगी भी कुछ एक-सी ही गुज़री है.

जब दोनों जवान और जोशीले थे तो दोनों के बड़े जलवे थे. इमरान ने अंग्रेजन फांसी, तो पाकिस्तान ने अमरीका!

बेचारी अंग्रेजन और अमरीका अपने-अपने शौहर की हर ख्वाहिश पूरी करती, उन के बच्चे पालती, बड़ी खस्ता हालत में जीती रही, अपने मेहनत से कहीं कम लाभ पाती रही!

जब सहन से बाहर हो गया तो उन्होंने तलाक ले लिया, और अपने अपने परिवेश में लौट गई.

जब पहली शादी टूट गई तो इमरान ने दूसरी की, पाकिस्तान ने भी अमरीका से अनबन होने पर चीन के सामने लिपस्टिक लगा कर बेली डांस कर लिया, और राजी कर ही लिया कि कुछ समय ही सही, चीन अपने नाम का सिन्दूर पाकिस्तान की माँग में भर दे!

लेकिन रहम खान का जादू और चीन की चकाचौंध दोनों बड़ी जल्दी फीके पड़ गए, और रहम खान तो पीछा छुड़ा कर आज़ाद हो ली, पाकिस्तान चीन से पीछा छुडाने के कगार पर है.

… क्यों कि यदि ऐसा नहीं हुआ तो चीन पाकिस्तान को आर्थिक, औद्योगिक, सामरिक, नैसर्गिक… सारे मामलों में पके आम की तरह चूस कर गुठली बना कर फेंक देगा.

अब इमरान और पाकिस्तान दोनों तीसरे साथी के तलाश में है – इमरान की नज़र तो बुशरा मानिक पर है, और पाकिस्तान की शायद मुस्लिम उम्मा या नास्तिक रशिया पर.

लेकिन इन दोनों उम्मीदवारों में न पहले वाले संबंधों जैसी कशिश है, न ही दिली ख्वाहिश! उस अधेड़ उम्र की बुशरा ने इमरान जैसे प्लेबॉय को दहलीज पर खड़ा रखा है और सऊदी अरब सहित सारे मुस्लिम देश पाकिस्तान के बदले भारत का चुम्मा लेने के लिए अधीर हैं!

देह व्यापार में लिप्त अभागी औरत की नथ उतारते समय लाखों की बोली लगती है, और जब वह उसी काम को करते-करते ढलते उम्र की और खोखली हो जाती है तो उसी कोठे के बाहर भीख मांग कर गुज़ारा करने के लिए बाध्य हो जाती है.

जन्म से ही इस या उस महासत्ता को फाँस कर अपनी ऐय्याशी का जरिया बनाने वाले पाकिस्तान की 70 वर्ष की उम्र में वही हालत हो चली है!

ईश्वर हमारे पड़ोस में दूसरा रवांडा/ सीरिया/ यमन/ इथियोपिया न बनाए!

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY