TTT ही नहीं, और भी मुद्दों पर ठोस कानून बनाने की ज़रूरत

इधर देश में 3 तलाक, बोले तो TTT पर चिहाड़ मची है. मुसलसल ईमान रखने वाले हज़रात पर मुकद्दमे और जेल की तलवार लटका दी है मोदी सरकार ने.

इस पूरी बहस में मुझे एक बड़ा मज़ेदार किस्सा याद आता है जो कुछ साल पहले पंजाब के एक शहर में हुआ.

तो हुआ यूं कि हमारे एक परिचित थे. रहने वाले जालंधर के थे पर बरसों से Canada में ही सैटल थे.

उनके दो लड़के थे. दोनों का शरीर एकदम हाथी की माफ़िक़ था. मने बड़ा भाई 140 किलो का था और छोटा 150 किलो का.

दोनो की लंबाई भी सवा छह फुट… मने दोनो भाई साक्षात महाभारत सीरियल के दैत्य थे… एकदम घटोत्कच…

फिर एक दिन पता चला कि बड़के बेटे का बियाह तय हो गया… हमको भी न्योता था, और चूंकि एकदम बगल का मामला था, और कुल जमा 4-6 लोगों को ही इनवाईट किया गया था सो हम भी चले गए वरना आमतौर पर मैं ऐसे चक्करों में नहीं पड़ता हूँ…

और वहां जाने का एक कारण ये भी था कि मुझे कौतूहल था कि वो भला कौन लड़की है जो इस गैंडे से बियाह रचा रही है…

वहां देखा कि कुल जमा 35 किलो की एक बेहद स्मार्ट कूल डूडनी पूरे दुल्हनिया मेकअप में सजी धजी सिंहासन पर विराजमान थी.

मुझे पंजाबियों की इस मानसिकता पर बहुत तरस आया कि ये सिर्फ विदेश में सैटल होने के लिए ज़िन्दगी में कैसे कैसे समझौते कर लेते हैं.

पंजाबी लड़का या लड़की जब अपने लिए NRI रिश्ता खोजता है तो वो अपने लिए सिर्फ पत्नी या पति नहीं बल्कि उसकी आड़ में वीजा खोज रहा होता है.

बहरहाल वो लड़की शादी के दो-तीन महीने बाद अपने पति के साथ Canada चली गयी और वहां सुखपूर्वक साफ-सुथरी गलियों और सड़कों पर विचरने लगी.

करीब डेढ़-दो साल बाद हमको फिर उसी परिवार से न्योता मिला. अबकी उनके छोटके बिटवा का बियाह था. वो अपने बड़े भाई से और ज़्यादा मोटा था.

अबकी बार पता चला कि उसकी भाभी ने अपनी छोटी बहन का बियाह भी उसी घर में अपने देवर से करवा दिया है.

हमने देखा कि छोटकी बहन अपनी बड़ी बहन से भी ज़्यादा स्मार्ट और दुबली थी, रही होगी यही कोई 30-32 किलो की.

और उसका पति 150 किलो का.

वो भी शादी के 2-3 महीने बाद Canada चली गयी.

इस घटना के करीब एक साल बाद बड़ी झन्नाटेदार खबर ये सुनने को मिली कि छोटी बहिन की शादी के एक साल बाद, जबकि दोनों बहनों को Canada की नागरिकता मिल गयी, One Bright Summer Morning, दोनों बहनों ने अपने-अपने गैंडे के समान मोटे थुलथुल पतियों को लात मारी और घर छोड़ भाग गईं…

दोनों ने वहां जा के पहले तो नागरिकता हासिल की, फिर पति से तलाक लिया और अब अपने मतलब के नए पति खोज के ले गयी हैं पंजाब से.

पंजाब के NRI समाज में भी शादी बियाह के नाम पर होने वाली ऐसी घटनाओं के खिलाफ सख्त कानून बनाने की मांग हमेशा से उठती रही है.

यहां ऐसी हज़ारों लड़कियां अपने घरों में बैठी अपने NRI पति का इंतज़ार कर रही हैं जो बरसों पहले बारात ले के आये… 3 महीने हनीमून मनाया और कनाडा-अमरीका लौट गए, ये आश्वासन दे के कि, जा के वीज़ा भेजता हूँ… और फिर कभी खोज खबर नहीं ली.

देस में सिर्फ TTT ही नहीं और भी बहुत से मुद्दे हैं जिनपर ठोस कानून बनाने की ज़रूरत है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY