मृत्यु ही बन सकती है प्रेम की जांच

युवती है एक सुंदर. तीन हैं उसके प्रेमी. प्रेयसी एक, प्रेमी तीन.
पहली बात समझ लेनी जरूरी है. परमात्मा एक, प्रेमी अनेक. अनंतता प्रेमियों की है; प्रेयसी की अनंतता नहीं है, प्रेयसी एक है.

कहानी कहती है कि युवती को बड़ी कठिनाई है, कैसे चुनें! तीनों समान गुणधर्मा हैं. समान बुद्धिमान हैं, सुंदर हैं, स्वस्थ हैं. गुणों की तरफ से तौलने का कोई उपाय नहीं है. तीनों का प्रेम है उसकी तरफ. अगर गुणों में कमी-बेशी होती तो चुनाव आसान हो जाता. लेकिन वे तीनों समान गुणधर्मा हैं.

इसे थोड़ा समझना चाहिए. असल में प्रेम के लिए गुणों का सवाल ही नहीं है. जहां गुण का सवाल है, वहां बुद्धि प्रवेश कर जाती है.

बुद्धि सोचती है कि किसका गुण ज्यादा, किसका कम. बुद्धि तुलना करती है. बुद्धि हिसाब बिठाती है. तो सच नहीं है यह बात, कि तीनों समान गुणधर्मा थे; क्योंकि हो नहीं सकते. ऐसा युवती को दिखाई पड़ता है, तीनों समान गुणधर्मा हैं. तीनों हो नहीं सकते समान गुणधर्मा; क्योंकि दो समान होते ही नहीं. थोड़े से गणित को खोजने की जरूरत थी और पता चल जाता कि कोई गुण में ज्यादा है, कोई गुण में कम है. क्योंकि इस जगत में समान वस्तुएं होती ही नहीं. दो कंकड़ एक जैसे नहीं होते तो दो व्यक्ति तो एक जैसे कैसे हो सकते हैं? लेकिन यह सवाल बुद्धि का है. बुद्धि तौल करती है, माप करती है. बुद्धि का अर्थ है माप; मेज़रमैंट.

लेकिन हृदय बुद्धि से सोचता ही नहीं. इसलिये जब परमात्मा के निकट हजारों प्रेमियों की प्रार्थनायें होती हैं तो तुम यह मत सोचना कि मैं ज्यादा बुद्धिमान हूं इसलिये मेरी प्रार्थना पहले सुन ली जायेगी; कि मैं ज्यादा धनी हूं इसलिये मेरी आवाज पहले पहुंच जायेगी; कि मैं बड़ा चित्रकार हूं, मूर्तिकार हूं, या राजनीतिज्ञ हूं, इसलिये पंक्ति में मुझे पहले खड़े होने का मौका मिल जायेगा. नहीं, तुम्हारे गुणों का कोई सवाल नहीं. बल्कि तुम गुणों पर अगर निर्भर रहे तो यही तुम्हारा योग्यता का आधार होगा. तुम्हारा हृदय जांचा जायेगा.

युवती के सामने तीनों थे, उसे तीनों समान दिखते थे. प्रेम से भरा हुआ हृदय बुद्धि से सोचता नहीं. इसलिये अगर कभी तुम्हारा हृदय सच में ही प्रेम से भर जाये तो तुम भी मापत्तौल में मुश्किल अनुभव करोगे.

उस युवती को तीनों समान दिखाई पड़े. प्रेम को सदा तीनों समान दिखाई पड़ेंगे. प्रेम तुलना करता ही नहीं. और चूंकि यह कथा तो मूलतः परमात्मा की है, इसलिये परमात्मा को भक्त समान दिखाई पड़ेंगे. उनके गुणों से कोई भेद नहीं पड़ता. एक भक्त काशी से पांडित्य लेकर आया है और एक भक्त गांव का अज्ञानी है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता. काशी का पंडित यह दावा नहीं कर सकता कि मेरे पास पांडित्य अतिरिक्त है. भक्ति के साथ कुछ और भी मेरे पास है, इसलिये पहले मौका मुझे मिलना चाहिए. ना, कोई गुणों का सवाल नहीं है. हृदय के भाव का ही सवाल है. लेकिन भाव को तौलना बड़ा मुश्किल है. गुण तौले जा सकते हैं, परीक्षा हो सकती है, भाव नहीं तौला जा सकता है. भाव इतना निगूढ़ है, इतना रहस्यपूर्ण है, उसके लिए कोई तराजू निर्मित नहीं हो सके.

प्रेम को मापना मुश्किल है. कैसे हम मापें कि प्रेम है, या प्रेम नहीं है, या कितना है? बुद्धि से तो प्रश्न पूछे जा सकते हैं, बुद्धि उत्तर देगी; उत्तरों से पता चल जायेगा. प्रेम से कोई प्रश्न नहीं पूछे जा सकते.

प्रेम तो सिर्फ परिस्थिति में पता चलेगा. इसे थोड़ा समझ लें. प्रेम तो किसी घटना से पता चलेगा. प्रेम तो किसी ऐसी अवस्था में पता चलेगा, जो मौजूद हो जाये. तीन व्यक्ति तुम्हें प्रेम करते हैं और तुम डूब रहे हो नदी में, उस वक्त पता चलेगा कि उन तीन में से कौन अपनी जान को जोखिम पर लगाता है? कौन छलांग लेता है? कौन तुम्हें बचाने जाता है? परिस्थिति चाहिए. जीवंत परिस्थिति चाहिए तो ही प्रेम का पता चलेगा. इसलिये कहानी बड़ी साफ है.

कहानी कहती है, लड़की तय न कर पाई कि किसको चुनें. तीनों समान गुणधर्मा मालूम हुए और तीनों का प्रेम मालूम होता था. अब कोई परिस्थिति ही प्रगट कर सकती है.

परिस्थिति सूफियों ने जो चुनी है, वह मौत. प्रेम का ठीक पता मौत के क्षण में ही चलता है, उसके पहले नहीं. यह बड़ी अजीब बात है. जीवन में प्रेम की जांच नहीं हो पाती, मौत में प्रेम की जांच होती है. क्योंकि जीवन में तो हम धोखा दे सकते हैं, इसलिये जो स्त्रियां अपने प्रेमियों के लिए मर गईं आग में जलकर उन्होंने खबर दी, कि प्रेम था. जिंदा में तो सभी स्त्रियां अपने पतियों से कहती हैं कि तुम्हारे बिना न जी सकूंगी, मर जाऊंगी. यह सवाल नहीं है. कौन मरता है! यह कोई उत्तर की बात हो तो सभी पत्नियां यही कहती हैं कि तुम्हारे बिना मर जाऊंगी, तुम्हारे बिना क्षण भर न जी सकूंगी. लेकिन कोई मरता नहीं. पति मर जाता है, थोड़ा रोना-धोना होता है, फिर जिंदगी शुरू हो जाती है. घाव भर जाते हैं. फिर नये प्रेमी मिल जाते हैं.

मृत्यु ही प्रेम की जांच बन सकती है, क्योंकि मृत्यु से गहरी कोई घटना नहीं है. इसलिये प्रेम को जांचने के लिए उससे छोटी कोई चीज काम नहीं आयेगी.
प्रेम इतना गहरा है, जितनी मृत्यु.

इसलिये जो जानते हैं, वे जानते हैं कि प्रेम और मृत्यु समान हैं, उनमें एक गहरा पर्याय है. दोनों एक जैसे हैं और उनकी गहराई बराबर एक जैसी है. प्रेम का अर्थ है, तुम्हारे केंद्र तक छिद जाये तीर. मृत्यु में भी केंद्र तक तो तीर छिदता है.

कहानी कहती है, वह युवती मर गई अचानक. इसके सिवाय कोई मार्ग भी न था. जानने का बस एक ही उपाय था कि मृत्यु के बाद क्या व्यवहार है प्रेमियों का. उनमें से तीनों बड़े दुखी हुए, रोये, पीटे, खिन्न हुए, उदास हुए. जीवन से अर्थ खो गया. एक कब्र पर ही रह गया. दूसरा विपन्न पिता की सेवा में लग गया. लड़की मर गई और पिता बहुत दुखी और बूढ़ा. और तीसरा विरागी हो गया, संन्यस्त हो गया, घर छोड़कर फकीर हो गया.

तीनों ने जो भी व्यवहार किया, वह प्रेमपूर्ण है. क्योंकि विपन्न पिता की सेवा में लग जाना… इस पिता से तो कोई संबंध न था, सिर्फ प्रेयसी का पिता था. और प्रयेसी मर गई, अब क्या संबंध था? मरते ही हमारे सब संबंध टूट जाते हैं. क्योंकि सेतु ही मिट गया तो अब इस पिता से क्या लेना-देना था! लेकिन यह पिता दुखी था, मरी हुई प्रेयसी का पिता था. एक युवक पिता की सेवा में लग गया.

दूसरे के जीवन में अर्थ खो गया. जब प्रेयसी ही मर गई अब कुछ पाने को न बचा, वह फकीर हो गया. वह परमात्मा की तलाश पर निकल गया. तीसरे ने जैसे होश-हवास खो दिया. न कुछ करने को बचा, न कुछ खोजने को बचा. फकीरी तक व्यर्थ मालूम पड़ी. वह वहीं कब्र पर घर बनाकर रहने लगा. वह कब्र ही उसका घर हो गयी.

तीनों ने प्रेमपूर्ण व्यवहार किया लेकिन तीनों के प्रेम बड़े अलग-अलग मालूम पड़ते हैं. भेद शुरू हो गया. परिस्थिति ने भेद साफ कर दिया. जो युवक पिता के पास रहने लगा, उसका प्रेम दया, करुणा, सहानुभूति जैसा था. परिस्थिति ने उघाड़ा हृदय को; और कोई जांचने का उपाय न था. उसके प्रेम में दया थी. लेकिन ध्यान रहे, दया और प्रेम बड़ी अलग बातें हैं. और प्रेमी दया नहीं मांगता, और अगर तुम प्रेमी को दया करो तो दुखी होता है. क्योंकि दया तो सदा अपने से नीचे पर की जाती है. प्रेम समान है; वह किसी को नीचे नहीं रखता. प्रेम दूसरे को समकक्ष मानता है. दया तो नीचे के प्रति की जाती है. दया में तुम ऊपर हो जाते हो. और दया का पात्र नीचा हो जाता है. दया तो भिक्षा जैसी है. प्रेम और दया पर्यायवाची नहीं हैं.

प्रेम बड़ी अनूठी घटना है. दया बड़ी साधारण बात है. दया तो कोई भी बुद्धिमान आदमी कर लेगा–करनी चाहिए. लेकिन दया निष्प्राण है. वह ऐसा पक्षी है जो मर चुका, जिसमें तुमने भुसा भरकर घर पर रख दिया है, दूर से जीवित दिखाई पड़ता है.

प्रेम उड़ता हुआ पक्षी है आकाश में–जीवंत! दया मरा हुआ पक्षी है, जिसमें भूसा भरके रख दिया है. देखने में जीवंत से भी ज्यादा स्वस्थ मालूम पड़ सकता है–बस देखने में. भीतर वहां प्राण नहीं है.

एक युवक निष्ठावान था; दया और करुणा से सेवा में लग गया.
सूफी फकीर कहते हैं कि दया तुम्हें परमात्मा तक नहीं पहुंचायेगी. दया नैतिक है, प्रेम धर्म है. इसलिये तुम गरीबों की सेवा करो, भूमिहीनों को भूमि दिलवाओ, बीमारों का हाथ-पैर दाबो. अगर यह कर्तव्य है तो तुम चूक गये.

दूसरा युवक संन्यस्त हो गया, विरागी हो गया. उसका प्रेम भी बहुत गहरा न रहा होगा, उथला रहा होगा. तभी तो मृत्यु ने सारी बदलाहट कर दी. जहां राग था, वहां विराग आ गया. प्रेम अगर गहरा होता तो इतना आसान परिवर्तन नहीं था. छोड़कर, फकीर होकर चल पड़ा. देखने में तो हमें लगेगा कि बड़ा प्रेमी था. सब छोड़ दिया! लेकिन प्रेम अगर गहरा हो तो देख ही नहीं पाता कि प्रेयसी मर सकती है.

प्रेम सदा अमृत को देखता है.
यह कोई प्रेमी नहीं था, यह इस स्त्री को भोगने को उत्सुक था. और जब स्त्री मर गई, भोग का द्वार बंद हो गया तो खिन्न और उदास! इसका जो संन्यास है, वह भी वास्तविक नहीं है; वह खिन्नता से पैदा हुआ है, उदासी से पैदा हुआ है, निराशा से पैदा हुआ है. और इस फर्क को ठीक से समझ लेना.

अगर तुम्हारा धर्म संसार की निराशा से पैदा हुआ है तो तुम्हारा धर्म वास्तविक नहीं हो सकता. क्योंकि निराशा से सत्य का कहीं जन्म हुआ है? और दुख से कहीं मोक्ष मिला है? दुख से जो बीज खिलेगा, उसमें दुख के ही बीज लगेंगे.
अगर तुम्हारा संन्यास संसार के अनुभव से पैदा हुआ हो, तब बात दूसरी है. अगर तुम्हारा संन्यास संसार के सुख से पैदा हुआ हो और संसार के सुख ने तुम्हें इशारा किया हो कि और महासुख की संभावना है, और तुम परमात्मा की खोज में गये हो, यह बात बिलकुल अलग है. यह एक विधायक तत्व है.

ओशो
बिन बाती बिन तेल- प्रवचन 6

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY