तब तक सच पर रहेगी पाबंदी

एक लड़ाकू समाज जानता है कि लड़ना कैसे है. लो लेवल वायलेंस उसकी तलवार होती है और विक्टिमहुड नरेटिव यानी खुद को पीड़ित बताने का पाठ उसका कवच. बाकी सहनशीलता की पराकाष्ठा पार कर चुके भीरू लोग एक दिन अचानक उठ खड़े होते हैं और कहते हैं आज आर या पार. ऐसे में पुलिस प्रशासन … Continue reading तब तक सच पर रहेगी पाबंदी