सोमनाथ मंदिर में क्या लूटने गये थे औरंगज़ेबी विरासत के भावी कांग्रेस अध्यक्ष

कांग्रेस के कपिल सिब्बल ने कांग्रेस के नए अध्यक्ष की ताजपोशी को ‘औरंगज़ेबी परंपरा’ घोषित करते हुए उसी मुगल वंश और सत्ता की विरासत बताया जिससे ताल्लुक रखने वाले महमूद गजनवी, अलाउद्दीन खिलजी और औरंगजेब के अलावा खुद को इस्लाम के योद्धा होने का दावा करने वाले तमाम आतताइयों के कई बार लूटने का काम किया.

ऐसा कहते हुए कपिल सिब्बल ने अनायास ही सोमनाथ मंदिर को लूटने, तोड़ने वाले औरंगजेब और राहुल जी में विरासती समानता तलाशने की बात का ध्यान दिलाया… तब याद आया कपिल जी का उदाहरण पीढ़ी दर पीढ़ी सौ फीसदी सही है.

तारीखें गवाह हैं कि जवाहरलाल नेहरू इसी देश के प्रधानमंत्री रहते हुए… राष्ट्रपति राजेन्द्र प्रसाद की सहमति के बीच सरदार पटेल, केएम मुंशी और एनवी गाडगिल के सोमनाथ के पुनर्निर्माण के संकल्प के सामने… ध्वस्त सोमनाथ को जीर्णशीर्ण अवस्था में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) को सौंपने के फिराक में थे.

जबकि उसी समय राष्ट्रपति डॉ राजेन्द्र प्रसाद ऐलान कर रहे थे ‘राष्ट्र का गौरव तब तक बहाल नहीं हो सकता जब तक सोमनाथ का पुनर्निर्माण और ज्योतिर्लिंगों में पहले माने जाने वाले सोमनाथ लिंगम की स्थापना नहीं हो जाती’.

और जब 11 मई 1951 को सोमनाथ में लिंगम स्थापना समारोह में भाग लेते हुए अपने भाषण में देश के पहले राष्ट्रपति राजेन्द्र प्रसाद ने कहा :

‘भले ही कुछ स्थलों को ध्वस्त किया जा सकता है, लेकिन अपनी संस्कृति और विश्वास के साथ लोगों के रिश्ते को कभी खत्म नहीं किया जा सकता’.

गुजरात चुनावों में विराट हिंदुत्व और पांडित्य के जनेऊ धारण कर घूमने-फिरने के बीच… क्या कांग्रेस कपिल सिब्बल के हवाले से इस बात का जवाब देगी कि औरंगज़ेबी विरासत के भावी कांग्रेस अध्यक्ष सोमनाथ मंदिर में क्या लूटने गये थे?

प्रश्न के साथ एक तथ्य भी नत्थी है : सोमनाथ का गैर हिन्दू आगंतुक रजिस्टर.

हिन्दू एक जीवनशैली है, दर्शन है, राष्ट्र संस्कृति है… जबकि धर्म सनातन है. आप खुद को विराट हिन्दू के साथ महान शिवभक्त कहें… अच्छी बात है. महाब्राह्मण कहें… आपका स्वागत. यही तो सनातन धर्म की समावेशी संस्कृति रही जिसने सभी का स्वागत किया.

इसी आधार पर इस देश में जन्मा हर व्यक्ति मूलतः हिन्दू संस्कृति का है… भले ही उसकी धार्मिक आस्था कुछ भी हो, के विचार की पुष्टि होती है. जिसका उदाहरण रहा… सोमनाथ मंदिर का आगंतुक रजिस्टर.

लेकिन औरंगज़ेबी विरासत से वाया नेहरू… अभी बीते यूपीए के मनमोहन सिंह की सरकार तक ‘हिन्दू आतंकवाद’ जैसे फरेब को भी आपने ही गढ़ा और देश के माथे पर कालिख की तरह पोतने का काम किया.

कांग्रेस के भावी अध्यक्ष को विरासती ताजपोशी की शुभकामना के साथ कपिल सिब्बल को सच्चा उदाहरण देश के सामने देने का धन्यवाद.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY