मैं ईश्वर की प्रयोगशाला हूँ

यूं तो हर इंसान ऊपरवाले की प्रयोगशाला में एक उपकरण मात्र है. जिस पर वह अपना प्रयोग करता है और उपकरण के गुणधर्मों के अनुसार कोई न कोई ऐसा रसायन तैयार करता है जिससे उपकरण की उपयोगधर्मिता, उसके गुण और अधिक उन्नत हो सके. लेकिन मेरे जीवन में जितने भी प्रयोग वो महामाया करती रहती … Continue reading मैं ईश्वर की प्रयोगशाला हूँ