देवदासी प्रथा का सच

कुछ प्रथाओं को लेकर जनमानस के मन मे ऐसा मतिभ्रम उत्पन्न कर दिया गया है कि, विधर्मियो के सवाल पे वो जानकारी न होने पे चुप्पी साध जाते हैं, और हिंदुत्व को लेकर उनके मन मे एक कुंठा व्याप्त हो जाती है ऐसी ही एक प्रथा है – देवदासी प्रथा.

माना जाता है कि ये प्रथा छठी सदी में शुरू हुई थी. इस प्रथा के तहत कुंवारी लड़कियों को धर्म के नाम पर ईश्वर के साथ ब्याह कराकर मंदिरों को दान कर दिया जाता था.

माता-पिता अपनी बेटी का विवाह देवता या मंदिर के साथ कर देते थे. परिवारों द्वारा कोई मुराद पूरी होने के बाद ऐसा किया जाता था.

देवता से ब्याही इन महिलाओं को ही देवदासी कहा जाता है. उन्हें जीवनभर इसी तरह रहना पड़ता था.

मत्स्य पुराण, विष्णु पुराण तथा कौटिल्य के अर्थशास्त्र में भी देवदासी का उल्लेख मिलता है. देवदासी यानी ‘सर्वेंट ऑफ़ गॉड’.

देवदासियां मंदिरों की देख-रेख, पूजा-पाठ की तैयारी, मंदिरों में नृत्य आदि के लिए थीं. कालिदास के ‘मेघदूतम्’ में मंदिरों में नृत्य करने वाली आजीवन कुंवारी कन्याओं की चर्चा की है. संभवत: इन्हें देवदासियां ही माना जाता है.

देवदासी प्रथा का सच

ऐसा माना जाता रहा है कि ये प्रथा व्यभिचार का कारण बन गयी, और मंदिर के पुजारी इन देवदासियों का शोषण करते थे, और सिर्फ वही नहीं अन्य लोग जो विशेष अतिथि होते थे या मंदिर से जुड़े होते थे वो भी इन देवदासियों का शारीरिक शोषण करते थे.

लेकिन ऐसा नही है, कैसे और क्यों आइये आपको अवगत कराते हैं —

देवदासियों का मुख्य कार्य था मंदिर की साफ सफाई, उसका रख रखाव दीप प्रज्वलन, पवित्र ढंग से रहते हुए मंदिर के सभी कर्म करना. इनका वर्गीकरण होता था और प्राचीन हिन्दू वैदिक शास्त्रों के अनुसार इन्हें 7 वर्ग में विभाजित किया गया है —

1.दत्ता – जो मंदिर में भक्ति हेतु स्वतः अर्पित हो जाती थी. इन्हें देवी का दर्जा दिया जाता था और इन्हें मंदिर के सभी मुख्य कर्म करने की अनुमति होती थी.

2. विक्रिता – जो खुद को सेवा के लिए मंदिर प्रशासन को बेच देता था, इन्हें सेवा के लिए लिया जाता था अतः इनका काम साफ सफाई आदि का होता था. ये पूजनीय नहीं होती थीं, ये बस मंदिर की श्रमिक होती थीं.

3. भृत्या – जो खुद के परिवार के भरण पोषण के लिए मंदिर में दासी का कार्य करती थीं. इनका कार्य नृत्य आदि करके अपना पालन पोषण करना होता था.

4. भक्ता – जो सेवा भाव में पारिवारिक जिम्मेदारियों का निर्वहन करते हुए भी मंदिर में देवदासी का कार्य करती थीं. ये मंदिर के समस्त कर्मों को करने के लिए होती थीं.

5. हृता – जिनका दूसरे राज्यों से हरण करके मंदिर को दान कर दिया जाता था. इनको मंदिर प्रशासन अपनी सुविधा अनुसार कर्म कराता था इनकी गणना थी तो देवदासियों में परंतु वास्तव में ये गुलाम थे.

6. अलंकारा – राजा और प्रभावशाली लोग जिन कन्याओ को इसके योग्य समझते थे उसे मंदिर प्रशासन को देवदासी बना कर दे देते थे. ये उन राजाओं और प्रभावशाली व्यक्तिओं का मंदिर को दिया गया उपहार होती थीं.

7. नागरी – ये मुख्यतः विधवाओं, वैश्याओं और दोषी होते थे जो मंदिर की शरण में आ जाते थे. जिन्हें बस मंदिर से भोजन और आश्रय की जरूरत थी बदले में ये मंदिर प्रशासन का दिया कोई भी कार्य कर देते थे.

मुख्यतः दत्ता, भक्ता और अलंकारा ही मंदिर की देवदासियां होती थीं जबकि नागरी, हृता, बिक्रीता और भृत्या अपने स्वार्थ के लिए मंदिर से जुड़ती थी और जहाँ मुख्य देवदासियों को श्रद्धा और भक्ति से देखा जाता था वहीं इन चारों को हेय दृष्टि से.

मुख्य देवदासियां (दत्ता, भक्ता, अलंकारा) को खाने आदि की कमी नहीं होती थीं तो इन्हें कोई गलत कर्म नहीं करना पड़ता था जबकि गौड़ देवदासियों को अपने जीवन यापन के लिए अन्य कर्म भी करने पड़ते थे जिसमें गलत कर्म (वेश्यावृत्ति) भी थे.

गौड़ देवदासियों के इन्हीं व्यवहार को प्रचारित किया गया और ये कहा गया कि सभी देवदासियों का शोषण होता है जिसका मंदिर प्रशासन ये पुजारी फायदा उठाते हैं जबकि ये गौड़ दासियों द्वारा स्वार्थ के लिए मजबूर किया जाता था.

कहीं कहीं उल्लेख मिलता है कि राजा इन देवदासियों का इस्तेमाल दूसरे राज्य के राजाओं की हत्या में भी इतेमाल करते थे । ये कर्म हृता द्वारा किया जाता था(कौटिल्य अर्थशास्त्र)

मुगलकाल में ज्यादातर लोग अपनी कन्याओं को मंदिर में दान करने लगे और जब राजाओं ने महसूस किया कि इतनी संख्या में देवदासियों का पालन-पोषण करना उनके वश में नहीं है, तो देवदासियां सार्वजनिक संपत्ति बन गयी (मुख्य तीनों को छोड़कर) जिन्हें अपने पालन पोषण के लिए वैश्यावृत्ति तक करनी पड़ी. और यही प्रचारित और प्रसारित किया गया.

विशेष

अक्सर आपने कथित दलित मसीहाओं को ये कहते हुए सुना होगा कि देवदासी प्रथा में दलितों का शोषण होता आया है. उनकी जानकारी के लिए बता दूं कि देवदासी प्रथा के अंतर्गत ऊंची जाति की महिलाएं ही मंदिर में खुद को समर्पित करके देवता की सेवा करती थीं. इसमें दलितों के शोषण की बात भ्रामक है.

फिलहाल ये प्रथाएं बंद हो चुकी है मैं इन प्रथाओं का विरोध करता हूँ, इन प्रथाओं की आड़ में किसी के धर्म का मजाक उड़ाना (जबकि इसकी सत्यता तक आपको नहीं पता) कहाँ तक उचित है.

#Sources – Parker, M. Kunal. July, 1998. “A Corporation of Superior Prostitutes’ Anglo- Indian Legal Conceptions of Temple Dancing Girls, 1800- 1914.”. Modern Asian Studies. Vol. 32. No. 3. p. 559.
2. Saskia C. Kersenboom- Story. 1987. . Nityasumangali. Delhi: Motilal Banarsidas. p. XV.
3. Tarachand, K.C. 1991. Devadasi Custom: Rural Social Structure and Flesh Markets. New Delhi: Reliance Publishing House. p. 1.
4. Ibid.,
5. Singh, A.K. 1990. Devadasis System in Ancient India. Delhi: H.K. Publishers and Distributors. p. 13.
6. Orr, Leslie. C. 2000. Donors, Devotees and Daughters of God: Temple Women in Medieval Tamilnadu. Oxford: Oxford University Press. p. 5.
7. Farquhar, J.N. 1914 (Rpt. 1967). Modern Religious Movements in India. New Delhi: Munshiram Manoharlal. pp. 408- 409.
8. Thurston, Edgar and K, Rangachari. 1987 (Rpt. 1909). Castes and Tribes of Southern India. Vol. II- C to J. New Delhi: Asian Educational Services. pp. 125- 126.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY