भानुमति – 12

जरासंध के शिविर के बाहर कृष्ण के सभी शस्त्रों को धारण किये उद्धव बड़ी व्याकुलता से टहल रहे थे. वे सदैव ही कृष्ण से समहत होते आये थे, परन्तु आज उन्हें कृष्ण का अकेला और निशस्त्र होकर जरासंध से भेंट करना अनुचित प्रतीत हुआ था. परंतु यह भी तो था कि कृष्ण किसी की सुनते … Continue reading भानुमति – 12