वॉशिंगटन की 92 प्रतिशत सड़कें खराब, मप्र बेहतर, फिर बोले शिवराज

भोपाल. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अमेरिका से भोपाल लौट कर अपना दावा दोहराया है कि मध्यप्रदेश की सड़कें अमेरिका से बेहतर हैं. शिवराज ने दावा किया कि अमेरिकी राजधानी वॉशिंगटन की 92 प्रतिशत सड़कें खराब हालत में हैं.

उल्लेखनीय है कि चौहान ने अमेरिका में बयान दिया था कि मध्य प्रदेश की कई सड़कें वॉशिंगटन डीसी की सड़कों से अच्छी हालत में है.

अमेरिका दौरे से लौटने के बाद यहां हवाईअड्डे पर चौहान ने कहा, “मैं यह बात पूरी गंभीरता से कहना चाहता हूं कि मैं मध्यप्रदेश की ब्रांडिंग करने अमेरिका गया था.”

उन्होंने कहा, “मैंने यह (सड़कों के बारे में) तब महसूस किया जब मैं वॉशिंगटन हवाईअड्डे से शहर की ओर सड़क से जा रहा था. मैं कोई स्थानीय गलियों की सड़कों के बारे में बात नहीं कर रहा था.”

अपनी अमेरिका यात्रा की उपलब्धियों की बात करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी वहां निवेशकों से काफी सार्थक चर्चा हुयी. निवेशकों ने शिक्षा, स्वास्थ्य, खाद्य प्रसंस्करण, इलेक्ट्रानिक, और रक्षा उत्पादन जैसे क्षेत्रों में रूचि दिखाई है.

उन्होंने कहा, ‘‘मैं आपको उदाहरण देना चाहता हूं कि मध्यप्रदेश में जब आप इन्दौर हवाई अड्डे से सुपर कॉरीडोर सड़क से शहर की ओर जायेगें तो आप एक विश्वस्तरीय सड़क पायेंगे. जब अमेरिका में मैंने सड़क के बारे में कहा था तो मेरे दिमाग में यही अहसास था.”

 

चौहान ने कहा, “मैं वहां अपने प्रदेश की ब्रांडिग करने गया था, न कि यहां की स्थानीय सड़कों की ख्रराब हालत बताने. लेकिन हमारे कांग्रेसी मित्रों को हर चीज में राजनीति दिखती है.” इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने प्रदेश के इन्दौर-भोपाल और इन्दौर-मंदसौर जैसे विश्वस्तरीय राजमार्गो का भी उदाहरण दिया.

मुख्यमंत्री ने कहा, “मैं वहां अपने प्रदेश और देश के अच्छे और सकारात्मक पक्ष बताने गया था. मैंने एक रिपोर्ट में पढ़ा कि वॉशिंगटन की 92 फीसद सड़कें खराब हालत में हैं.”

पिछले सप्ताह मुख्यमंत्री चौहान ने वॉशिंगटन में कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ इंडियन इंडस्ट्री और यूएस-इंडिया स्ट्रेजिक पार्टनरशिप फोरम के एक कार्यक्रम में कहा था, “जब मैं वॉशिंगटन हवाई अड्डे पर उतरकर शहर की ओर आ रहा था तो मैंने महसूस किया कि मध्यप्रदेश की सड़कें अमेरिका से अच्छी हैं और मैं यह केवल कहने के लिये नहीं कह रहा हूं.”

चौहान ने दावा किया की इसके अलावा मध्यप्रदेश महिला सशक्तिकरण, सिंचाई और मीडिया की निष्पक्षता जैसे मामलों में अमेरिका से कहीं आगे है. उन्होंने कहा, “अमेरिका में एक महिला राष्ट्रपति बनते बनते रह गयीं जबकि भारत में राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री जैसे उच्च पदों सहित पंचायत से संसद तक सभी स्तरों पर महिलाएं आसीन रह चुकी हैं. इस प्रकार जहां तक महिला सशक्तिकरण का सवाल है हम कहीं आगे हैं.”

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY