वीडियो : लाना ले जाना, खाना सब फ्री, ऊपर से नगद नारायण भी, जय हो कांग्रेस पार्टी

भक्तों, भाजपाइयों, संघियों, कान खोल कर सुन लो मैं कांग्रेस जॉइन कर रहा हूँ. लिख-लिख कर मर गए पर आज तक एक फूटी कौड़ी नही मिली BJP या संघ से. और इधर देखो… लाना ले जाना, खाना सब फ्री ऊपर से नगद नारायण भी, जय हो कांग्रेस पार्टी की.

और ये सब तब है जब साढ़े तीन साल से ना तो केंद्र में सत्ता में हैं ना राज्य में, सोचो पहले का कितना कमा कर रखा है कि आज तक बांट रहे हैं, इसे कहते हैं विकास.

गुजरात में मोदी और BJP का इतना बुरा हाल है कि कांग्रेस को कल के छुटभैयों का सहारा लेना पड़ रहा है. 2 कौड़ी के आवारा लड़कों के भरोसे हैं कांग्रेस. मज़े की बात तो ये है जिस हार्दिक पटेल पर राहुल को इतना भरोसा है… जिसे वो गुजरात का नेता और बदलाव की लहर बता रहे हैं, उसकी तो खुद की पैंट गीली हो गयी और उसने चुनाव लड़ने से साफ मना कर दिया.

लड़ कर दिखा बेटा, तब दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा, यानी जिसके भरोसे राहुल बाबा चुनाव लड़ने और मोदी को हराने की सोच रहे थे उसका तो खुद हार के डर से बुरा हाल है, रुमाल में मुँह छुपा कर भागते फिर रहे हैं. उधर गले में ढोलक लटकाए presstitutes तालियां पीट रहे हैं कि इस बार तो एक नया नेता पैदा होगा.

वैसे बता दूं कि मैं हॉस्पिटल में हूँ. कल शाम एक साथ 3 हार्ट अटैक आये थे. वो क्या है महीनों बाद कल गलती से टीवी ऑन कर लिया. देखा तो गुजरात गया, मोदी हार रहे हैं, ऐसी हार आज तक नही देखी जिसमें चैनल्स पर ये बहस चल रही हो कि BJP की अगर 150 से कम सीट्स आये तो इसे मोदी की हार मानी जाए?

विपक्षी पार्टियां भी उछल उछल कर कह रही हैं, “नहीं-नहीं, 150 तो बहुत कम है इतनी तो आसानी से आ जाएंगी, यदि 160-170 सीट्स से कम आती हैं तो इसे मोदी की हार माना जाएगा”.

वाह रे चपड़ गंजुओं, ऐसी हार तो आज तक किसी की नही हुई होगी जिसे दो तिहाई बहुमत मिल रहा हो और इसे विरोधी भी खुल्लम खुल्ला टीवी पर मान रहे हों और कह रहे हों अगर तीन चौथाई से कम बहुमत मिला तो इसे हार माना जाएगा! यानी एक चीज़ तो साफ है, सब मान रहे हैं मोदी और BJP जीत रही है. भाई फिर चुनाव का फालतू खर्च क्यों करवा रहे हो? वैसे ही मान लो… जैसे अपन बाज़ार में मोल भाव करते है, ना तेरा ना मेरा 155 कर लेते हैं, झंझट खत्म.

तो मित्रों, अब समझ में आया ये 3 बंदर खान्ग्रेस में क्यों लाये गए हैं? ताकि हार का ठीकरा इनके माथे फोड़ा जा सके और मंदबुद्धि बच्चे का बचाव किया जा सके, जब चुनाव के बाद वो तेल चटाई ले कर विदेश भाग जाए.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY