अहमद पटेल के संरक्षण वाले अस्पताल में नौकरी करते थे ISIS आतंकी

अहमदाबाद. गुजरात आतंकवाद निरोधक दस्ते (ATS) ने जिन दो आईएसआईएस आतंकियों को गिरफ्तार किया, वे कांग्रेस नेता अहमद पटेल के संरक्षण वाले अस्पताल में नौकरी करते थे. यह खुलासा किसी और ने नहीं बल्कि खुद गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने किया है.

हाल ही में गुजरात एटीएस ने कुख्यात इस्लामिक आतंकवादी संगठन आईएसआईएस के दो आतंकियों को गिरफ्तार किया था. ये आतंकी अहमदाबाद में बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में थे.

रूपाणी ने यह सनसनीखेज खुलासा करते हुए आरोप लगाया है कि गुजरात आतंकवाद निरोधक दस्ते (ATS) की ओर गिरफ्तार आईएस आतंकी कांग्रेस नेता अहमद पटेल के संरक्षण वाले अस्पताल में नौकरी करते थे. मामले को लेकर उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, उपाध्यक्ष राहुल गांधी और अहमद पटेल से इस्तीफा मांगा है.

सीएम रूपाणी ने कहा कि खूंखार आतंकी मोहम्मद कासिम जिस भरुच अस्पताल में नौकरी करता था, उसके कर्ता-धर्ता अहमद पटेल ही हैं. हालांकि कांग्रेस ने सफाई दी है कि अहमद पटेल ने यहां से साल 2014 में इस्तीफा दे दिया है.

इतना ही नहीं, साल 2016 में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को बुलाकर अस्तपाल का उद्घाटन करवाया था. मुख्यमंत्री रूपाणी ने मामले को लेकर कांग्रेस नेता अहमद पटेल से सफाई मांगा है.

वहीं, कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने आरोपों को सिरे से खारिज किया है. उन्होंने मामले में सफाई देते हुए कहा कि मेरे ऊपर भाजपा की ओर से लगाए जा रहे सारे आरोप निराधार हैं. मेरी पार्टी और मैं आतंकियों की गिरफ्तारी के लिए गुजरात एटीएस की तारीफ करता हूं. साथ ही आतंकियों के खिलाफ कड़ी और जल्द कार्रवाई करने की मांग करता हूं.

उन्होंने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई की आड़ में शांति प्रिय गुजरातियों में फूट न डाली जाए. कांग्रेस नेता ने कहा कि हम अपील करते हैं कि चुनावी फायदे के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे का राजनीतिकरण न किया जाए.

मामले पर भाजपा नेता और कैबिनेट मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा कि चुनाव में भाजपा विकास के मुद्दे को लेकर लड़ रही है. कांग्रेस के पास मुद्दों का अभाव है. उनके पास कोई मुद्दा नहीं है. विकास से दूर-दूर तक उनका नाता नहीं है. आज जो तथ्य सामने आया है वो बहुत चौंकाने वाले हैं.

प्रकाश जावडेकर ने कहा कि हम तो विकास के मुद्दे से भटकेंगे नहीं पर इसका खुलासा कांग्रेस को करना चाहिये कि आतंकवाद की लड़ाई में वो हमारे साथ हैं या वहां भी वो राजनीति कर रहे हैं.

वहीं, अस्पताल की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि आतंकी मोहम्मद कासिम को नियमानुसार परीक्षा के बाद अस्पताल में नौकरी मिली थी. वह चार अक्टूबर को ही अस्पताल से इस्तीफा दे दिया था, जिसे अस्पताल ने मंजूर भी कर लिया है.

कांग्रेस मीडिया चेयरपर्सन रणदीप सुरजेवाला ने सफाई देते हुए कहा कि चुनाव से पहले हताश भारतीय जनता पार्टी (BJP) अब ओछी राजनीति पर उतर आई है. अहमद पटेल ने अस्पताल से साल 2014 में इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद वह किसी भी तरह अस्पताल से नहीं जुड़े रहे है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY