तो कांग्रेस ने स्वीकार कर लिया है कि वो चोर है!

file photo

गुजरात में हार्दिक पटेल और भाजपा की दुश्मनी किसी से छुपी नहीं है. पिछले दो ढाई वर्षों से हार्दिक पटेल पानी पी-पीकर भाजपा को गालियां दे रहा है.

यह स्वाभाविक भी है. कोई भी व्यक्ति अपने दुश्मन को गालियां ही बकेगा. भाजपा ने भी हार्दिक पटेल को जवाब देने में कोई कसर बाकी नहीं रखी है.

दोनों तरफ से आरोपों प्रत्यारोपों की बौछार जारी रही है. लेकिन दोनों ही पक्ष एक-दूसरे के आरोपों को अपनी पूरी ताकत से नकारते रहे हैं. उन आरोपों का जम कर विरोध करते रहे हैं.

इसके विपरीत गुजरात में कांग्रेस की स्थिति अत्यन्त हास्यास्पद हो गयी है. क्योंकि जिस हार्दिक पटेल को उसने गुजरात में अपना सबसे बड़ा हीरो बनाया है वो हार्दिक पटेल खुलेआम सार्वजनिक मंचों पर भाषणों और मीडिया के साथ बातचीत में लगातार यह कह रहा है कि कांग्रेस चोर है.

मंगलवार को अहमदाबाद में हार्दिक पटेल ने स्वयं द्वारा कांग्रेस का समर्थन किए जाने पर सफाई देते हुए कहा कि हम महाचोर को हराने के लिए ‘चोर’ का साथ दे रहे हैं.

गुजरात के मांडल में आक्रोश रैली में हार्दिक ने कहा कि कांग्रेस चोर है, लेकिन महाचोर भाजपा को हराने के लिए कांग्रेस का साथ दे रहे हैं.

हार्दिक ने यह पहली बार या केवल एक बार ही नही कहा.

इससे पहले रविवार (22 अक्‍टूबर) को गुजरात के वघोड़िया तालुका के मुस्लिम बाहुल्य मधेली गांव में मुस्लिम मतदाताओं को रिझाते हुए हार्दिक पटेल ने और ज्यादा बेबाकी के साथ खुलकर कहा कि कांग्रेस और बीजेपी दोनों मौसेरे भाई हैं, यदि भाजपा महाचोर है तो कांग्रेस चोर है, इसलिए मैं चोर का समर्थन कर रहा हूं.

हार्दिक पटेल द्वारा लगातार दिए जा रहे ऐसे बयानों का कांग्रेस ने ना तो विरोध किया, ना खण्डन किया. इसके बजाय हार्दिक पटेल के स्वागत सत्कार, उसकी तारीफों के पुल बांधने में जुटी है कांग्रेस नेताओं की फौज.

क्योंकि दुश्मन कहे तो बात समझ में आती है लेकिन जिसे महानायक बताकर कांग्रेसी जिसकी प्रचण्ड चमचागिरी कर रहे हो वो ही व्यक्ति बार बार लगातार सार्वजनिक रूप से कांग्रेस को चोर कह रहा हो और कांग्रेस चुप्पी साधे हो तो यह क्यों ना कहा जाए कि कांग्रेस ने स्वीकार कर लिया है कि वो चोर है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY