जनहित में जारी : दुर्घटनाएँ अपने आप नहीं होती, हमारी मूर्खता से होती हैं!

जी हाँ, यह सच है भीषण दुर्घटनाएँ अपने आप नहीं होती हैं. इन्हें हम अपनी मूर्खताओं से बुलाते हैं. इसका प्रमाण आज दिनांक 22 अक्टूबर 2017 रविवार के प्रात: 10 बजे देखने को मिला.

इन्दौर की सबसे प्रमुख सड़क BRTS पर, शालीमार टाऊनशिप के ठीक सामने विज्ञापन के लिये छोड़ा गया हवा में ऊपर लहराया हुआ गुब्बारा, पंचर हो जाने के कारण नीचे झूम रहा है.

नीचे आकर यह गुब्बारा जब सड़क के लेवल पर आ जाएगा तो तेज़ी से आ रहे किसी स्कूटर या मोटर साईकिल चालक के गर्दन में इसकी डोरी अगर फँस जाएगी. कल्पना कीजिये कितनी भीषण दुर्घटना हो सकती है.

आते जाते सब देख रहे हैं किसी को चिन्ता नहीं. कोई मरे हमें क्या लेना देना! सब कोई चुपचाप देखते जा रहे है. मैंने पुलिस कन्ट्रोल रूम फोन किया है. शायद समय रहते वह जाग जाए. नहीं तो किसी की लाश का पंचनामा बनाने तो वह जरूर आ जाएंगे, जिससे ग़ुब्बारे उड़ाने वाले पर ग़ैर इरादतन हत्या का फ़ौजदारी मुक़दमा क़ायम करके मोटी गड्डी के दर्शन हो सकें.

पुनश्च: 22 अक्टूबर 2017, रविवार समय 3:30 अपरान्ह; पुलिस कन्ट्रोल पर 0731- 2522501 पर 12 बजकर 02 मिनिट पर पुन: सूचित करने के बाद भी इस समय स्थिति यथावत है. सम्भवत: इतवार होने के कारण सब आराम कर रहे हैं या फिर दुर्घटना हो जाने देने की प्रतीक्षा कर रहे हैं.

 

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY