ऐसे ही रौंदे जाएंगे, अपने अस्तित्व और आस्था की रक्षा के लिए उठ खड़े नहीं होने वाले

एक औरत अपने कर्मों के कारण मारी गई. वह एक राजनीतिक पार्टी की मुखिया थी. उस की मौत का बदला उस पार्टी के सदस्यों ने 4000 मासूमों की हत्याओं से लिया. देश की अखंडता पर एक बदसूरत खरोंच लगा दी. इस हत्याकांड को उस औरत के बेटे ने “जब एक विशाल पेड़ गिरता है तो … Continue reading ऐसे ही रौंदे जाएंगे, अपने अस्तित्व और आस्था की रक्षा के लिए उठ खड़े नहीं होने वाले