Mission Modi 2019 : मोदी से नाराज़ राष्ट्रवादियों को दिखाइये सद्गुरु का ये वीडियो

Modi with Sadguru

मोदीजी का नारा ‘सबका साथ सबका विकास’ हिन्दू राष्ट्रवादियों की आँख की किरकिरी बना हुआ है. उन्हें अपना विकास तो चाहिए लेकिन भारत में बसे ग़ैर हिन्दुओं का नहीं. उन्हें लगता है मोदीजी ने प्रधानमंत्री पद ग्रहण करने के बाद अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं की पूर्ति के लिए यह कदम उठाया है. वो अचानक से हिन्दू से सेक्युलर हो गए हैं.

लेकिन वो भूल जाते हैं कि सबका साथ सबका विकास नारा तो उन्होंने प्रधानमंत्री बनने के दो वर्ष पूर्व ही दे दिया था. उनके सद्भावना मिशन के दौरान क्या आपको उनका उद्देश्य पता नहीं था? देश में सद्भावना लाने के लिए उन्होंने जो 36 उपवास रखे थे क्या आप उसे भूल गए? आज की तारीख में मोदीजी के अलावा एक राजनेता और बताइये जो देश में सुख शान्ति और समृद्धि के लिए व्रत रखता हो… व्रत और यज्ञ की महान परंपरा और उसका महत्व एक वास्तविक सनातनी हिन्दू ही जान सकता है.

सिर्फ और सिर्फ मोदी ही जानते हैं उन्हें प्रधानमंत्री पद तक पहुंचाने के लिए अस्तित्व ने कितना बड़ा षडयंत्र रचा है. सिर्फ और सिर्फ मोदी ही जानते हैं कि सिर्फ 2019 ही नहीं 2024 में भी उनको उसी पद पर आसीन रहने के लिए कितनी कड़ी तपस्या करनी है. अपने ही लोगों का विरोध सहते हुए उन्हें आगे भी बहुत कड़े और कडवे फैसले लेने होंगे. और वे लेंगे क्योंकि सिर्फ वो ही जानते हैं कि जब अस्तित्व योजनाएं बनाती हैं तो वो अस्थायी सुख दुःख को नहीं देखती, उसे चाहिए होते हैं दूरगामी सुखद परिणाम.

यदि आपके पास मोदीजी के साथ दूर तक चलने का साहस और हौसला नहीं है तो रुक जाइए, मत बढ़िये आगे लेकिन कम से कम उनकी राह का रोड़ा मत बनिए. इससे उनकी यात्रा की तकलीफें ही बढेंगी. लेकिन अस्तित्व की योजना में कोई फर्क नहीं आएगा. वो आपके सहयोग के बिना भी 2019 में उसी गरिमा और हौसले के साथ प्रधानमंत्री पद पर विराजमान होंगे.

कुछ कड़े और कड़वे फैसलों के कारण राष्ट्रवादियों को लगता है एक अकेला आदमी जिसका कोई उत्तराधिकारी नहीं वो अपने स्वार्थ के लिए ये सारे निर्णय ले रहा है. तो बता दूं मैं कि हाँ वें अपने उत्तराधिकारी के लिए ही आपकी सारी कटु आलोचनाएं और अपने ही लोगों के अविश्वास को धैर्य पूर्वक सहन कर रहे हैं.

आप जानते हैं कौन होगा उनका उत्तराधिकारी? उनका उत्तराधिकारी होगा भारत माँ की ही कोख से जन्म लेने वाला उनके ही जैसा कोई योगी. आपको यकीन नहीं आता तो सद्गुरु का यह वीडियो देखिये कि कैसे मोदी का नाम लिए बिना यह जता दिया कि क्यों भारत माँ के माथे का सूर्य फिर चमकने वाला है. देखिये उनके चेहरे का उल्लास कि वो कितने आश्वस्त हैं ये कहते हुए कि बरसों की तपस्या के बाद भारतमाता को किसी विदेशी का नहीं अपने ही कोख के जाए का नेतृत्व मिला है… एक वास्तविक उत्तराधिकारी मिला है.

जिस धरती के साधु-संत तक ये जानते हैं कि मोदी का नेतृत्व भारत को किस दिशा में ले जा रहा है, वहां की प्रजा की अज्ञानता, आलोचना और विरोध कोई मायने नहीं रखता.

यह भी पढ़ें – Mission Modi 2019  : नमो अरिहंताणं

Mission Modi 2019 : इस ब्रह्मचारी के लिए अपनाना ही होगा ब्रह्म आचरण

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY