मोकामा में आकर हम धन्य हो गइलियो… – मोकामा में बोले मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार के मोकामा में 3769 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं की आधारशिला रखी. श्री मोदी गंगा से लेकर दीवाली व छठ तक पर बोले. प्रधानमंत्री केंद्र व राज्य सरकार के दोस्ताने संबंध पर भी बोले. इसके पहले उन्होंने मगहिया अंदाज में भी लोगों को संबोधन किया, जो वहां के लोगों को काफी भाया. नरेंद्र मोदी ने कहा- ‘मोकामा में आकर हम धन्य हो गइलियो…’

मोकामा की ही सभा में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने नमामि गंगे परियोजना पर कहा था कि गंगा की निर्मलता के साथ ही अविरलता भी जरूरी है. वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी बात रखते हुए कहा कि जब गंगा निर्मल होगी तो वह खुद ब खुद अविरल भी हो जायेगी. उन्होंने कहा कि गंगा को बचाने के लिए केंद्र सरकार कृतसंकल्पित है. गंगा को बचाना हमारे लिए भावी पीढ़ी को बचाने जैसा है. आने वाले समय में गंगा स्वच्छ दिखेगी. स्वच्छ गंगा में छठ पूजा करने में बिहार के लोगों को काफी आनंद आयेगा.

प्रधानमंत्री ने विकास को लेकर भी अपनी बात रखी. उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य कंधे से कंधा मिला कर काम कर रहे हैं. इससे बिहार अपनी ऊंचाईयों को छुएगा. इय क्षेत्र भी विकास में काफी आगे जायेगा. उन्होंने कहा कि नीतीश जी का मोकामा क्षेत्र से भावनात्मक लगाव है. यहां का विकास होने से इसके साथ ही बेगूसराय से लेकर पटना तक का विकास होगा.

इसके पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने NH-82 के बिहारशरीफ-बरबीघा-मोकामा सड़क का शिलान्यास किया यह सड़क 297 करोड़ की लागत से बनेगी. इसके अलावा उन्होंने बिहार को 3769 करोड़ की सौगात दी. वहीं 837 करोड़ की लागत से बख्यितारपुर-मोकामा फोरलेन बनेगा. मौके पर 1161 करोड़ की 6 लेन गंगा सेतु की आधारशिला भी रखी गयी. NH-31 के औंटा-सिमरिया सड़क परियोजना का भी शिलान्यास किया. वहीं 73.61 करोड़ से कर्मलीचक सीवरेज ट्रीटमंंट प्लांट का शिलान्यास किया. 188 करोड़ की लागत से बननेवाली कर्मलीचक सीवरेज नेटवर्क की भी आधारशिला रखी गयी.

मौके पर पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार जनता की तपस्या को बेकार नहीं जाने देगी. देश में कुछ लोग ऐसे हैं, जो देश को पीछे ले जाना चाहते हैं. उन्होंने अपनी सरकार की उपलिब्ध गिनाते हुए कहा कि 3 करोड़ से ज्यादा परिवार को गैस का सिलेंडर दिया गया है. आने वाले साल में 2 करोड़ परिवार को गैस सिलेंडर पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना का बिहार फायदा भी उठाएं. केंद्र व राज्य मिलकर मुफ्त में गरीबों को बिजली कनेक्शन देगी.

इसके पहले प्रधानमंत्री ने कहा कि मोकामा में बनने वाला पुल बिहार का बेहतरीन पुल होगा. बेगूसराय को यह पुल पटना से जोड़ेगा. उन्होंने कहा कि मैं श्रीकृष्ण जी और दिनकर जी को नमन करता हूं. मैं बाबा चौहरमल को भी नमन करता हूं.

इससे पूर्व पटना विश्वविद्यालय के शताब्दी दिवस समारोह में शिरकत करने पहुंचे पीएम मोदी ने बड़ा एलान करते हुए कहा कि पटना यूनिवर्सिटी को केद्रीय विश्वविद्यालय से भी आगे ले जाना है, इसे चुनिंदा 20 विश्वविद्यालयों में शामिल किया जाएगा.

पीएम ने कहा कि देश के दस प्राइवेट और दस पब्लिक यूनिवर्सिटी को वर्ल्ड क्लास बनाने के लिए सरकार एक योजना लाएगी, इन यूनिवर्सिटी को सरकार के बंधन से मुक्ति देनी होगी. इन दोनों प्राइवेट और पब्लिक यूनिवर्सिटी को अगले पांच सालों में दस हज़ार करोड़ रूपये आवंटित किए जाएंगे.

इन  यूनिवर्सिटी को चैलेंज के रूप में सामने आना होगा. इन यूनिवर्सिटी को अपनी सामर्थ्य को सिद्ध करना होगा.  इनका विभिन्न पैमानों पर चुनाव किया जाएगा। मोदी ने इसे सेंट्रल यूनिवर्सिटी से भी आगे की सोच बताया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पीयू को इसमें आगे आना होगा. भाषण में मोदी ने बिहार और पटना यूनिवर्सिटी की जमकर तारीफ की.

प्रधानमंत्री ने पटना विश्वविद्यालय की तारीफ करते हुए कहा कि आज हमारा देश जहां भी है उसमें इस विश्वविद्यालय का बड़ा योगदान है. हर राज्य में वरिष्ठ सिविल सर्विसेज के अधिकारी पटना विश्वविद्यालय के पढ़े हुए होते हैं. शिक्षा का उद्देश्य है दिमाग को खाली और खुला करना लेकिन हमारा जोर हमेशा दिमाग को भरने में रहा.

नीतीश की पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा दिए जाने की मांग पर प्रधानमंत्री ने कहा केंद्रीय विश्वविद्यालय बीते जमाने की बात है. इसे उससे आगे ले जाना चाहता हूं.

उन्होंने कहा कि भारत सरकार एक ऐसी योजना लाई है जिसके तहत आने वाले पांच साल में देश के 10 प्राइवेट और 10 सरकारी विश्वविद्यालयों को वर्ल्ड क्लास बनाया जाएगा। इसके लिए पूरी प्रक्रिया राजनीतिक हस्तक्षेप से दूर होगी. प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ 10 प्राइवेट और 10 सरकारी विश्वविद्यालयों को सरकार 10 हजार करोड़ रुपए की सहायता देकर वैश्विक स्तर का बनाएगी.

यह यूनिवर्सिटी इस बात का सुबूत है कि जो बीज सौ साल पहले बोया गया जिसने कई बड़ी हस्तियां पैदा कीं. इसी यूनिवर्सिटी से निकलकर कई विभूतियों ने देश-विदेश में नाम कमाया है. पहला राज्य है जहां सिविल सर्विस परीक्षा पास करने वाले छात्र हैं. इस विश्विवद्यालय का बड़ा योगदान है.

पीएम ने कहा कि पहले की पीढ़ी सांप से खेलती थी आज की नई पीढ़ी माउस से खेलती है. गणेश जी वाले माउस से नहीं कंप्यूटर के माउस की बात कर रहा हूं. पीएम ने सबसे दिमाग को खाली करने और उसे खोलने की अपील करते हुए कहा कि आज इनोवेशन को बढ़ावा देने की जरूरत है आज भारत स्टार्टअप की दुनिया में चौथे पायदान पर है। हमारे देश में सपनों को पूरा करने की ताकत है.

पीएम ने तकनीकी शिक्षा पर जोर देते हुए सभी यूनिवर्सिटीज से आह्वान किया कि तकनीकी शिक्षा पर जोर दें, तकनीक के माध्यम से बड़ी समस्याएं भी सुलझाई जा सकती हैं. शिक्षा की गति धीमी है इसे तेज करना जरूरी है. मैं पटना यूनिवर्सिटी को सबसे एक कदम आगे ले जाना चाहता हूं. हमारा हिंदुस्तान जवान है.  देश के सपने जवान हैं, इसे पूरा करने के लिए सबको आगे आने की जरूरत है.

पीएम मोदी ने कहा कि पूर्व के प्रधानमंत्रियों ने हमारे लिए कुछ अच्छे काम का मौका छोड़ा और आज मुझे ये मौका मिला है कि मैं इस एतिहासिक विश्वविद्यालय के शताब्दी दिवस में मौजूद हूं.

बिहार गंगा और ज्ञान दोनों हैं. नालंदा और विक्रमशिला का जिक्र करते हुये पीएम ने कहा कि जितनी पुरानी यहां गंगा धारा बहती है उतनी ही पुरानी यहां की ज्ञान धारा बहती है. मैं बिहार के विकास के लिए सीएम नीतीश के लिए जो काम किया जा रहा है उसकी प्रशंसा करता हूं. प्रधानमंत्री ने पटना में नवनिर्मित बिहार म्यूजियम का भी दौरा किया.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY