VIDEO : इस लेख का राहुल गांधी के राम भजन से कोई संबंध नहीं!

पंचवटी में लक्ष्मण ने शूपर्णखा के प्रस्ताव को ठुकराकर उसे अपमानित कर भगा दिया. तब शूपर्णखा ने अपने भाई रावण से अपनी व्यथा सुनाई और खुद के अपमान का प्रतिशोध लेने के लिये उसे उकसाया. तब रावण ने अपने मामा मारीच के साथ मिलकर सीता अपहरण की योजना रची. योजना के अनुसार मारीच ने सोने के हिरण का रूप धर राम-लक्ष्मण को वन में ले जाना तय किया दूसरी और रावण ने साधु का वेश धरकर सीता का राम-लक्ष्मण की अनुपस्थिति में अपहरण करना सुनिश्चित किया.

दोनों तय योजनानुसार अपनी भूमिका निभाते हैं. मारीच स्वर्णमृग का रूप धरकर राम लक्ष्मण को कुटिया से दूर कर देता है दूसरी ओर रावण ब्राह्मण साधु का वेश धरकर कुटिया पर भिक्षा मांगने पहुंच जाता हैं. वो सीता को लक्ष्मण रेखा के बाहर आकर भिक्षा देने की कहता है और खुद को अपने ही मुंह से पहुंचा हुआ “संत व धर्मात्मा” बताता है. सीता प्रारंभ में उसकी बातों पर भरोसा नहीं करती पर अतंत: नियति के अनुसार उनका अपहरण हो जाता है. आगे की कथा सबको पता है कि क्या हुआ था.

गुजरात चुनाव में भी वहां की जनता ने 2012, 2007, 2002 में एक दल का निवेदन ठुकरा दिया. 2017 में वह दल अपने अपमान का प्रतिशोध लेने की फिराक में हैं. प्रतिशोध पूरा करने के लिये वही योजना बनाई है जो निशाचर हमेशा बनाते हैं. भेष बदलकर और अपना असली चेहरा छुपाकर लोगों को धोखा देने का.

गाय को काटकर खाने वाले मंदिर मंदिर माथा टेक रहें हैं. तिलक लगाकर भाषण दे रहे हैं. राम को काल्पनिक होने का कोर्ट में “शपथपत्र” देने, रामसेतु को तोड़ने की योजना बनाने वाले और “भगवा/हिंदू आतंकवाद” की संकल्पना को जन्म देने वाले जनता को भरोसे में लेने के लिये खुद को जन्मजात हिंदू बता रहे हैं.

लक्ष्य वही है गुजरात की अस्मिता का हरण. जनता चुपचाप सारा तमाशा देख रही हैं. गुजरात में एक अलग ही तरह की “राजनीतिक लीला” चल रही हैं. यद्यपि अभी वहां चुनाव की तारीखों की घोषणा नहीं हुई हैं. पर मामा मारीच और भांजे रावण ने अपनी भूमिका वहां निभाना शुरू कर दी है. इस आशा में कि इस बार जीत उनकी ही होगी. पर जैसा कि हर कथा में होता है जीत अंत मे धर्म की ही होती है, वही परिणाम गुजरात में आयेगा. फिलहाल गुजरात में कौन किसकी भूमिका निभा रहा हैं इसका अंदाजा आप खुद लगाईये.

सोशल पर वायरल हुआ राहुल गांधी के राम भजन का यह वीडियो

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY