वज़न कम करने का अंतिम उपाय – 5 : यौवन लौटाता है Aloe vera

Aloe vera

अब मैं जिस महत्वपूर्ण वस्तु के बारे में बताने जा रही हूँ वो है Aloe vera यानी ग्वारपाठा. जी हाँ हमारे चमत्कारी आयुर्वेद विज्ञान में Aloe vera एक ऐसी औषधि है जिसके आतंरिक और बाह्य दोनों प्रयोग से असाध्य रोगों से छुटकारा मिल सकता है.

Aloe vera के बारे में आगे लिखने से पहले आपको फिर एक बार उस भाव की याद दिला दूं जिसका ज़िक्र इसके पहले की तीन श्रृंखला में किया था कि चाहे आयुर्वेदिक हो, एलोपैथिक हो या होम्योपैथिक, कोई भी दवाई असर तब ही करेगी जब आपकी उस पर पूरी आस्था हो. और मन में यह भाव कि अब यह औषधि ही आप पर कोई चमत्कारिक असर करेगी और जादू तभी शुरू हो जाता है.

ये कुछ ऐसा ही है जैसे आप किसी पत्थर की मूर्ति को भगवान समझकर पूजते हैं. भौतिक रूप से देखा जाए तो वास्तव में तो वो पत्थर ही है. लेकिन आपकी आस्था और श्रद्धा ही उसमें प्राण प्रतिष्ठा करती है. जैसे जैसे भक्त अपनी आस्था की ऊर्जा उसको अर्पण करता है, वैसे वैसे वो ऊर्जा परावर्तित होकर आप पर आशीर्वाद बरसाती है. इसके पीछे भी आप वैज्ञानिक शोध कर सकते हैं. लेकिन हमारी आस्था को किसी विज्ञान के प्रमाण की आवश्यकता नहीं. हालांकि इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए आप हमारे शकुन शास्त्र पर प्रकाशित लेख पढ़ सकते हैं.

वैसे ही आप किसी पौधे या जड़ी-बूटी के वैज्ञानिक लक्षणों को स्वीकार कर उसका उपयोग शुरू करते हैं तो उसके सुखद परिणाम के साथ आपकी आस्था उस विशेष पौधे के प्रति बढ़ने लगती है. और फिर उस औषधि के अन्दर भी प्राण प्रतिष्ठा हो जाती है. जैसे तुलसी को माँ दुर्गा के नौ रूपों में से आठवां रूप माना जाता है. और उसका औषधि के रूप में प्रयोग करते समय भी हमारी आस्था उसके प्रति कम नहीं होती. इसलिए सारा जादू आपके भाव का है. लेकिन ये जादू उसी पर असर करेगा या उसी को दिखाई देगा जो उस पर पूरी आस्था रखेगा.

आपने ऐसा कई बार देखा होगा कि किसी एलोपैथिक डॉक्टर की दवाई चाहे कितनी ही कारगर क्यों न हो आप पर असर नहीं करती. यहाँ भी यही नियम काम करता है कि आपको उस डॉक्टर पर संदेह है.

तो सबसे पहली शर्त है संदेह अर्थात नकारात्मकता का त्याग, आस्था यानी सकारात्मक विचारों का स्वागत. अर्थात यहाँ भी हमारी वही ‘पंचलाइन’ काम करती है कि “ध्यान ही जीवन है”. और इस जीवन को अधिक ऊर्जावान बनाने के लिए आपको अन्दर से फिर वही बचपन और यौवन की ऊर्जा को लाना होगा.

और ऊर्जा को वापस पाने के लिए आपको उपयोग करना है एलोविरा. तो एलोविरा के उपयोग से पहले आपकी भावभूमि को उसके उपयोग के लिए तैयार करने के लिए ही उपरोक्त बातें कही गयी है. और इसलिए भी कही गयी है क्योंकि एलोविरा के बारे में अधिक जानकारी के लिए जब मैंने अंग्रेज़ी वेबसाइट का अध्ययन किया तो उसमें कई जगह यह लिखा पाया कि आप इसका उपयोग कीजिये लेकिन किसी चमत्कार की आशा मत रखिये. और मैं कहती हूँ जादू होता है इस बात की आस्था रखिये तो शुद्ध पानी भी चमत्कार दिखा देगा. लेकिन मेरे द्वारा बताई किसी भी वस्तु का प्रयोग शुरू करने से पहले आपको इस लेख के पहले दिए चार  भाग पढ़ना अनिवार्य है.

पहले के भाग पढ़ने के लिए कृपया नीचे दी गयी लिंक्स पर क्लिक करें

वज़न कम करने का अंतिम उपाय – भाग 1

ma jivan shaifaly dhyan hi jivan meditation weight loss
Ma Jivan Shaifaly

ध्यान ही जीवन : एक भी रुपया खर्च किये बिना कम कीजिये वज़न – भाग -2

वज़न कम करने का अंतिम उपाय – 3 : आयुर्वेद आशीर्वाद

Ma Jivan Shaifaly Ayurved Ashirwad
Ma Jivan Shaifaly

वज़न कम करने का अंतिम उपाय – 4 : Million Dollar Mistake

और मैं किसी विषय पर इतना विस्तार से तभी लिखती हूँ जब मेरा अपना अनुभव उससे जुड़ा हो. “जीवन पुनर्जन्म” वाले लेख में जिसने भी मेरी सूरत देखी है उनको यह ज्ञात होगा कि मात्र 15 दिन में मैंने काया रूपांतरण कर लिया था तो उसका श्रेय सूर्य साधना, ध्यान के अलावा किसी को जाता है तो वो है Aloe vera.

Aloe vera के लगातार उपयोग से ना सिर्फ चेहरा ठीक हुआ बल्कि मेरी त्वचा में एक नई कांति आई, चेहरे की झुर्रियां कम हुई, बल्कि सूजन भी पूरी तरह से उतर गयी.

सूजन की बात निकली है तो एक बात और याद दिला दूं. थाइरोइड और उसके जैसे अन्य हारमोंस के कम ज्यादा होने तथा अन्य बीमारियों के कारण औरतों के शरीर पर सामान्यत: सूजन होती ही है. जिसके कारण महिलाओं को लगता है वो मोटी हो रही हैं, वो अक्सर मोटापा ना होकर चेहरे की सूजन होता है. तो ऐसे में एलोविरा का उपयोग आपके लिए वरदान समान है. क्योंकि Aloe vera लगाने से सूजन लगभग ख़त्म हो जाती है.

Aloe vera का उपयोग

सबसे पहली बात आपको अभी तक कहीं भी Aloe vera खाने के लिए नहीं कहा गया है. सबसे पहले हरे एलोविरा का एक टुकड़ा चाकू से काटकर उसके कांटे निकालना है. फिर ऊपर से उसका हरा छिलका निकालकर उसके पल्प यानी गूदे का उपयोग चेहरे पर लगाने के लिए करना है.

एलोविरा पल्प को आपको लेप की तरह ही दिन में तीन से चार बार लगाना है. जितनी देर रख सकें रख लीजिये फिर ठन्डे पानी से मुंह धो लीजिये. ध्यान रहे इसका ज़रा सा भी अंश आँखों में नहीं जाना चाहिए.

एलोविरा के अन्य लाभ, थायरॉइड दूर करने के उपाय के साथ अगले भाग में पढ़िए वज़न कम करने के अन्य उपाय..

आज इतना ही.

आयुर्वेद आशीर्वाद : 11 वर्ष नियमित त्रिफला सेवन से सच हो जाती है वाणी!

माँ की रसोई से पंचफोरन : भारतीय मसाले का पंचामृत

माँ की रसोई से : थाइरोइड को संतुलित रखने के लिए खाइए ये मुखवास

आयुर्वेद आशीर्वाद : अलसी से पाइए सम्पूर्ण पोषण

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY