दिये जलाओ पर रहे ध्यान इतना, अंधेरा धरा पर कहीं रह न पाए

Diwali

भारत एक विशाल देश है जहाँ विभिन्न धर्मों व संप्रदायों को मानने वाले लोग रहते हैं. अत: यहाँ मनाए जाने वाले त्यौहार और पर्व भी अनेक हैं. ये त्यौहार जहाँ हमारे जीवन में आनंद, उमंग और उत्साह का संचार करते हैं, वहीं हमारी अद्भुत, अनमोल और समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को भी रेखांकित करते हैं.

वैसे तो प्रत्येक त्यौहार का अपना एक विशेष महत्व होता है, परंतु इन सब में दीपावली का त्यौहार अपनी एक अलग ही पहचान रखता है. दीपावली का त्यौहार खुशियों का त्यौहार है. यह हमें समाज में फैली अनेक बुराइयों के अंधकार को समाप्त कर अच्छाइयों के प्रकाश की ओर ले जाने हेतु प्रेरित करता है.

यह जन-जन का पर्व है. छोटे-बड़े, धनी-निर्धन सभी इस पर्व को पूरे उत्साह से मनाते हैं. इस दिन हमें यह निश्चय करना चाहिए कि हम केवल बाहर के प्रकाश पर ही ध्यान न दें अपितु अपने हृदयों में भी सद्‌गुणों को आलोकित करें तथा यह प्रयास करें कि इस संसार में जहां कहीं भी गरीबी, भुखमरी, अशिक्षा एवं बुराइयों का अंधेरा है, वह दूर हो . हमें ये पंक्तियां सदा याद रखनी चाहिए- “दिये जलाओ पर रहे ध्यान इतना, अंधेरा धरा पर कहीं रह न पाए .“

दीपावली का प्रकाशोत्सव हमें सद्‌भावना, सदाचार एवं मेल-मिलाप का संदेश देता है . इसे पूर्ण निष्ठा, पवित्रता एवं उचित ढंग से मनाया जाना चाहिए ताकि कोई अप्रिय घटना न हो एवं चारों ओर खुशियों एवं उल्लास का वातावरण बना रहे.

आध्यात्मिक दृष्टिकोण से विचार करें तो दीपावली अन्धकार-मुक्ति का पर्व है. मनुष्य के अंदर अज्ञानरूपी अंधकार का निवास है. दीपक आत्म-ज्योति का प्रतीक है जिसे जलाकर मनुष्य अपने अन्तस् को ज्ञान के प्रकाश से आलोकित कर सकता है जिससे उसके मन-प्राण पुलकित हो उठें.

दीपावली की शुभकामनाओं के साथ!

डॉ शिबन रैणा के अन्य लेख पढ़ने के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करें

Comments

comments

loading...
SHARE
Previous articleराहुल से ऐसे ही ओछे बयान की अपेक्षा की जा सकती है : स्मृति
Next articleक्योंकि सास भी कभी बहू थी…
blank
Member, Hindi Salahkar Samiti, Ministry of Law & Justice (Govt. of India) SENIOR FELLOW,MINISTRY OF CULTURE (GOVT.OF INDIA) 2/537 Aravali Vihar(Alwar), Rajasthan 301001 (डॉ० शिबन कृष्ण रैणा) पूर्व सदस्य,हिंदी सलाहकार समिति,विधि एवं न्याय मंत्रालय,भारत सरकार। पूर्व अध्येता,भारतीय उच्च अध्ययन संस्थान,राष्ट्रपति निवास,शिमला तथा पूर्व वरिष्ठ अध्येता (हिंदी) संस्कृति मंत्रालय,भारत सरकार। सदस्य,'पनुन कश्मीर' की मानवाधिकार समिति।(संयुक्त राष्ट्रसंघ एवं संयुक्त राष्ट्रसंघ मानवाधिकार परिषद हेतु)

LEAVE A REPLY