माँ की रसोई में धींगा-मस्ती ही नहीं, होती है झींगा-मस्ती भी

माँ की रसोई में आप लोगों ने धींगा-मस्ती होते तो देखी होगी लेकिन ये झींगा मस्ती पढ़कर आपको ज़रूर अचम्भा हो रहा होगा. माँ की रसोई में Non-veg Recipe!! तो मैं आपको पहले ही बता दूं मैं अब Nonveg नहीं खाती, लेकिन पहले तो खाया ही है. झींगा ही नहीं, Fish और Crab भी खाया है. मतलब आप कह सकते हैं नौ सौ झींगे खाकर डोल्फिन हज को चली 🙂

कुछ मित्रों का कहना है आप चाहे ना खाएं, जो लोग खाते हैं उनको आप क्यों वंचित रखती हैं अपनी रेसिपी से. तो चलिए आश्चर्य आप बाद में कर लीजियेगा. पहले उन लोगों को रेसिपी नोट कर लेने दीजिये जिनके मुंह में रेसिपी की फोटो देखकर ही पानी आ रहा है.

और इस रेसिपी के बाद आपको मटन कोफ्ता रेसिपी भी पढ़ने को मिलेगी और जो लोग नॉन वेज रेसिपी पढ़ने में रूचि नहीं रखते उनके लिए होगी शुद्ध शाकाहारी भगत मुठिया रेसिपी, जिसमें मटन कोफ्ते की जगह होंगे चने की दाल के मुठिये. लेकिन पहले थोड़ी झींगा-मस्ती हो जाए.

Ingredients

साफ़ किये हुए Prawns – 250 grams
प्याज़ – 1 बड़ी
टमाटर – 2 मध्यम आकार के
अदरक लहसुन पेस्ट – दो छोटे चम्मच
सरसों तेल – 3 बड़े चम्मच
दालचीनी – 1 इंच टुकड़ा
तेज पत्ता – 2
सौंफ, कलौंजी – आधा आधा चम्मच
बड़ी इलायची – 1
हरी मिर्च – 1
कढ़ी पत्ता
पीसी लाल मिर्च – आप जितना तीखा खाते हैं उस अनुसार
धनिया पाउडर – 2 चम्मच
हल्दी – 1/2 चम्मच
गरम मसाला – 1/2 चम्मच
नमक स्वादानुसार

Marination के लिए

अदरक लहसुन का पेस्ट – 1 चम्मच
लाल मिर्च – 1 tsp
धनिया पाउडर – 2 चम्मच
हल्दी – 1/2 चम्मच
आधा चम्मच नमक
गाढ़ा दही – एक चौथाई कप

Recipe

सबसे पहले अदरक लहसुन का पेस्ट बनाते समय उसमें आधा चम्मच जीरा और 7-8 दाने काली मिर्च डाल दें. इससे मसाले के स्वाद और सुगंध में एक अद्भुत बदलाव आता है. और आप इस बदलाव को मसाला भूंजते समय खुद अनुभव करेंगे.

ये तरीका मैंने अपनी माँ से सीखा है. लेकिन उनका तरीका और बेहतर हुआ करता था. तब वो सिलबट्टे पर सारे मसाले खड़ा नमक डालकर पीसती थीं. मैं आज भी ऐसा ही करने का प्रयास करती हूँ. आपके पास यह सुविधा हों तो आप भी करें. फिर स्वाद और सुगंध का यह अद्भुत संयोजन आपको सीधे गाँव की सौंधी मिट्टी सा अनुभव देगा. और हाँ यह भूल जाइये कि आयोडीन केवल फलाना कंपनी का नमक खाने से ही मिलेगा.

अब सबसे पहले एक कटोरे में Marination का सारा सामान मिक्स करके उसमें Prawns डाल दीजिये और पूरा मसाला उन पर लपेट लीजिये. अब इसे आधे घंटे के लिए फ्रिज में रख दीजिये.

आधे घंटे बाद इन झींगों को एक चम्मच तेल गरम करके कुछ देर के लिए भून लें. और इसे अलग बाउल में निकाल लें.

अब उसी कड़ाही में दो बड़े चम्मच तेल डालकर तड़के के लिए राई, सौंफ, दालचीनी, इलायची, कढ़ी पत्ता, तेज पत्ता डाल दें.

अब इसमें बारीक कटी प्याज़ डालकर हल्का गुलाबी होने तक भून लें.

इसमें डालें टमाटर पेस्ट, और टमाटर गलने के बाद बचे हुए मसाले यानी अदरक लहसुन का पेस्ट, लाल मिर्च, हल्दी, धनिया पाउडर.

मसाला भुन जाने के बाद उसमें Prawns यानि, Srimps यानी अपने भुने हुए झींगों को मस्ती करने के लिए डाल दीजिये.

अब आप कहेंगे बेचारे मेरे झींगा-मस्ती के चक्कर में पहले ही जान गँवा चुके तो वो मसाले में क्या मस्ती करेंगे. तो भैया ऐसा है आप ये झींगा नहीं खा पाएँगे, आप तो रहने ही दीजिये. हाँ बाकी लोग जिनको इस मस्ती का मतलब समझ आया है वो उसे झींगों को पर्याप्त समय तक मस्ती करने दें.

और हाँ नमक डालना ना भूलें, जो मैं अक्सर भूल जाती हूँ. और अदरक लहसुन का पेस्ट खड़े नमक के साथ सिलबट्टे पर पीस कर बनाया है तो नमक दोबारा न डालें और साथ में ये भी याद रखें कि झींगों को मेरिनेट करते समय भी नमक डाला था इसलिए आवश्यकता अनुसार ही नमक डालें.

अंत में पूरी डिश तैयार हो जाने के दो चार मिनट पहले गरम मसाला डालें. और अंत में हरी धनिया डालकर धन्य हो जाएं.

अरे पूरी रेसिपी तैयार हो गयी और कहीं ध्यान बाबा का ज़िक्र नहीं आया! तो सुनिए जनाब, जब उनको रेसिपी का नाम बताया तो कहने लगे शुक्र है मैं नॉन वेज नहीं खाता इसलिए कम से कम इस रेसिपी में आप मेरा ज़िक्र कर अपने पाठकों को बोर नहीं करेंगी.

मन तो मेरा बहुत था लेकिन क्या करूं, ज़िक्र उनका इसलिए नहीं आया क्योंकि ये डिश उनको खिलाने का सौभाग्य मुझे शायद कभी नहीं मिलेगा क्योंकि वो नॉन वेज नहीं खाते. 🙂

चलिए बहुत हो गयी ध्यान बाबा के साथ धींगा-मस्ती अब थोड़ी झींगा-मस्ती भी कर लीजिये.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY