पीएम के खिलाफ आपत्तिजनक पर्चे बांटने पर दिनाकरन पर राजद्रोह का केस

चेन्नई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और तमिलनाडु के सीएम पलनिसामी के खिलाफ कथित तौर पर आपत्तिजनक पर्चे बांटने के मामले में एआईएडीएमके में अलग-थलग पड़ चुके टीटीवी दिनाकरन और उनके 10 समर्थकों पर राजद्रोह का केस दर्ज किया गया है.

पूर्व विधायक वेंकटचलम और स्थानीय एआईएडीएमके कार्यकर्ता सर्वनन समेत 10 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. दिनाकरन के खिलाफ यह दूसरा मामला दर्ज हुआ है. राज्य की सत्ता पर कब्जे को लेकर दिनाकरन की पलनिसामी गुट से तकरार चल रही है.

इससे पहले दिनाकरन के अलावा तमिल ऐक्टर और पार्टी के पदाधिकारी सेन्थिल के खिलाफ तिरुचिरापल्ली से सांसद पी कुमार पर टिप्पणी को लेकर मानहानि का केस दर्ज किया गया था. मद्रास हाई कोर्ट की मदुरै बेंच ने उन दोनों की गिरफ्तारी को लेकर तिरुचिरापल्ली पुलिस पर रोक लगा रखी है.

ताज़ा मामले में विनायकम नाम के शख्स ने शिकायत दर्ज कराई थी कि एक हॉल के बाहर आरोपियों ने जनता के बीच कथित रूप से आपत्तिजनक पर्चे बांटे. इसी जगह पलनिसामी वरिष्ठ अधिकारियों के साथ शनिवार को बैठक कर रहे थे.

पुलिस के मुताबिक पैम्फलेट में प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के खिलाफ आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया गया है. दिनाकरन के अलावा उनके करीबी पी वेट्रिवेल का नाम भी आरोपियों में शामिल है. वह उन 18 एआईएडीएमके विधायकों में शामिल हैं, जिन्हें हाल ही में तमिलनाडु विधानसभा के स्पीकर ने दल-बदल विरोधी कानून के तहत अयोग्य घोषित किया था

ताजा मामला दर्ज होने के बाद दिनाकरन ने आरोप लगाया है कि उनके प्रतिद्वंद्वी पलनिसामी ‘पुलिस मिनिस्टर’ हैं, इसलिए उनको फंसाया जा रहा है. दरअसल मुख्यमंत्री पलनिसामी के पास गृह मंत्रालय भी है, जिसके तहत पुलिस विभाग आता है.

चेन्नै में पत्रकारों से बातचीत के दौरान दिनाकरन ने कहा, ‘यह सरकार हर हाल में गिरने जा रही है. वह ऐसी चीजें इस वजह से कर रहे हैं, क्योंकि पलनिसामी पुलिस मिनिस्टर हैं. वह जो चाहते हैं उन्हें करने दीजिए. एआईएडीएमके के समर्थक और राज्य की जनता उन्हें घर भेजने वाली है.’

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY