गया ज़िले के डोभी में ओवरलोड ट्रक और अन्य गाड़ियों को टोल नाका पार कराने का खेल

प्रतीकात्मक चित्र

फेसबुक का तथाकथित मठाधीश होने का एक फायदा तो है कि देश भर में एक नेटवर्क बन गया है. भाई लोग फोन पर सूचनाएं देते हैं. बहुत भीतर तक की जानकारियां मिलने लगी हैं अब.

अभी एक मित्र का फोन आया गया – बिहार से. वहां NH 2 यानि कि दिल्ली हावड़ा स्वर्णिम चतुर्भुज (Golden Quadrilateral) पर गया जिले में डोभी नामक कस्बे में NH के टोल नाके से लगभग 5 किलोमीटर पहले जगन यादव नामक माफिया की समानांतर सत्ता आज भी बदस्तूर चल रही है.

जगन यादव का गिरोह उस राष्ट्रीय राजमार्ग पर चलने वाली ओवरलोड ट्रक व अन्य गाड़ियों से 5000 से 10,000 रूपए ले के उन्हें टोल नाके से पार करवाते हैं. जानकारी दी गई कि गया पुलिस की मिलीभगत और संरक्षण में ये धंधा चल रहा है.

पूरे इलाके में इस जगन यादव का इतना आतंक है कि पूरा जिला प्रशासन फेल है… और ये स्थिति कोई आज से नही है. जब ये NH बन रहा था तो इसी जगह NHAI (भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण) के इंजीनियर सत्येंद्र दुबे की हत्या हुई थी. सत्येंद्र दुबे बेहद ईमानदार अफसर थे और Golden Quadrilateral बनाने में हो रहे भ्रष्टाचार में आड़े आ रहे थे. उन्हें दिनदहाड़े मार दिया गया.

अभी road rage के जिस केस में रॉकी यादव को सज़ा हुई है उसके पिता बिंदी यादव की माफियागिरी भी इसी इलाके में चलती है. इस इलाके में अवैध खनन का बहुत बड़ा कारोबार है और अवैध खनन का पूरा धंधा ही ट्रक्स की ओवरलोडिंग पर चलता है.

समस्या ये है कि ओवरलोड ट्रक ही सड़क को तोड़ते हैं. मोदी – गडकरी की टीम इतने मनोयोग से सड़कें, NH बना रही है जिसे ये ओवरलोड माफिया साल भर में तहस नहस कर देगा.

एक नागरिक के रूप में हम सबका ये कर्तव्य है कि इस माफिया को एक्सपोज़ करें. ये लेख बिहार के मुख्यमंत्री नितीश बाबू, सुशील मोदी, प्रधानमंत्री और नितिन गडकरी के संज्ञान में आना चाहिए.

Comments

comments

LEAVE A REPLY