देवी दुर्गा का माँ के घर, हावड़ा आना

वाष्प, ऊमस, मेघों
के मारे दशा बुरी है जैसे
पारिजात गुँथकर सब
संग पसीज गए हो…

गौड़ जनपद के नौकाघर
लगते लगते बनारस से चले
स्टीमर में देर हो गई..

दुर्गा देवी अपने
दो बेटों कार्तिक व
विनायक के संग, छोटी भगिनी
सरस्वती बीच बाट
बीन बजाकर थोड़ा हृदय
लगाए रख रही थी…

“माँ, गौडुम्ब मिलेगा? गौडुम्बों
को खाकर ही ऊमस
से उन्मुक्ति हो सकती है.”

ढेर जल पर डोलती
नाव पर जब हाथियों के टोले
जैसे मेघ घिरें हो’
ढाई मास से बरसात न
रुकी हो तब गौडुम्ब
कहाँ से हो!
ढुंढा, चूड़ा, लवन,
गुड़ खा यात्रा कटी…

हावड़ा में भीड़भड़क्का
भीषण,
बक्सें, लोटा, छाते और गहने गिन-संभाल
उतारना..

फिर उसके
पश्चात् स्नान, दर्पण, सब
श्रृंगार…
तब मत्स्य और भात का भोज…

एड़ी और अंगुली मध्य स्थान
जो है वह बहुत दुख आया है,
अबेर तक ठाढ़ी
कलकत्ते की भूमि देखने का
यत्न करती,
कार्तिक को तल देना लूची और चाप,

“मेरा कार्तिक मद्रास चला गया.
फिर लौटा न
कभी मुख तक दिखाने के लिए.. निर्मोही निकला.”

(भगवान को भी यात्रा में कष्ट होता है. भगवान के परिवार में भी क्लेश लगे रहते हैं, उनको भी मोह-माया, सुख और दुःख होते हैं)
*गौडुम्ब- तरबूज
*ढुंढा- गुड़ से बाँधा गया लावे का लड्डू होते

Comments

comments

loading...
SHARE
Previous articleएक नए बुलंद भारत का निर्माण करेगी बुलेट ट्रेन
Next articleमाँ की रसोई से : Caramel Apple Donut Rings
blank
अम्बर रंजना पाण्डेय दर्शन शास्त्र में स्नातक हैं. अम्बर पाण्डेय ने सिनेमा से सम्बंधित अध्ययन पुणे, मुंबई और न्यूयॉर्क में किया है. संस्कृत, उर्दू, अंग्रेजी और गुजराती भाषा के जानकार अम्बर ने इन सभी भाषाओं में कवितायें और कहानियाँ लिखी हैं. इसके अलावा इन्होंने फिल्मों के सभी पक्षों में गंभीर काम किया है. पंद्रह दिसंबर 1983 को जन्म. अतिथि शिक्षक के रूप में देश के कई प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में अध्यापन कर चुके अम्बर इंदौर में रहते हैं.

LEAVE A REPLY