लंकेश की हत्या में संघ को घसीटने पर गुहा को भाजपा का कानूनी नोटिस

बेंगलुरु. अपनी हत्या के बाद चर्चा में आई महिला पत्रकार गौरी लंकेश की मौत में संघ परिवार का नाम जोड़ने पर भाजपा ने इतिहासकार रामचंद्र गुहा को कानूनी नोटिस भेजा है. भाजपा की ओर से रामचंद्र गुहा को नोटिस भेजकर तीन के भीतर बिना शर्त माफी मांगने को कहा गया है. यदि वह ऐसा नहीं करते हैं तो उनके खिलाफ सिविल और क्रिमिनल ऐक्शन लिया जाएगा.

गुहा ने कहा था कि गौरी लंकेश के हत्यारे संघ परिवार से जुड़े हो सकते हैं. भाजपा ने पिछले सप्ताह एक वेबसाइट में प्रकाशित गुहा के बयान के आधार पर उन्हें नोटिस भेजा है.

[अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के पैरोकार गिरोह को बर्दाश्त नहीं आलोचना]

इसमें उन्होंने कहा था, ‘इसकी बहुत संभावना है कि गौरी लंकेश के हत्यारे भी उसी संघ परिवार से जुड़े हों, जिससे जुड़े लोगों ने ही दाभोलकर, पानसारे और कलबुर्गी की हत्या की थी.’

इस बीच रामचंद्र गुहा ने ट्वीट कर वर्तमान मोदी सरकार पर अप्रत्यक्ष तौर पर निशाना साधते हुए लिखा, ‘अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था कि किसी पुस्तक या लेख का जवाब दूसरी पुस्तक या लेख ही हो सकते हैं. लेकिन हम अब वाजपेयी के भारत में नहीं रह रहे.’

एक और ट्वीट में गुहा ने लिखा, ‘आज के भारत में स्वतंत्र लेखकों और पत्रकारों का उत्पीड़न किया जा रहा है. सताया जा रहा है और यहां तक कि हत्याएं कर दी जा रही हैं. लेकिन, हमें चुप नहीं होना है.’

भाजपा की ओर से भेजे गए लीगल नोटिस में कहा गया है कि अब तक इन हत्याओं के केस सुलझे नहीं हैं. नोटिस में गुहा से कहा गया है, ‘आपकी ओर से जानबूझकर गलत बयान दिए जाने से हमारे मातृ संगठन से जुड़े हजारों लोगों और समर्थकों में गहरी नाराजगी है.’

रामचंद्र गुहा को यह लीगल नोटिस भारतीय जनता पार्टी की कर्नाटक यूथ विंग ने भेजा है. भाजपा की कर्नाटक यूथ विंग ने गुहा से तुरंत माफी मांगने की मांग की है. नोटिस में भाजपा युवा मोर्चा कर्नाटक के राज्य सचिव करुणाकर खसाले ने गुहा की टिप्पणी को गलत और आधारहीन बताया. उन्होंने कहा गुहा के इन आरोपों से आरएसएस और भाजपा की छवि और प्रतिष्ठा को धूमिल करने की कोशिश की गई है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY