धर्मान्तरण के छल – 2

गांधीजी ने लिखा था – “5000 विदेशी फादर प्रतिवर्ष 20 करोड़ रुपए भारत के हिन्दुओं के कन्वर्जन पर खर्च करते हैं. अब विश्वभर के 30,000 कैथोलिक आगामी  नवम्बर (1937) में मुम्बई में इकट्ठा होंगे, जिनका उद्देश्य अधिक से अधिक भारतीयों पर विजय पाना है. (देखें, हरिजन, 6 मार्च 1937) गांधीजी ईसाइयत को बीफ एण्ड बीयर बोटल्स क्रिश्चियनिटी कहते थे. उन्होंने … Continue reading धर्मान्तरण के छल – 2